अस्पताल में गंदगी मिलने पर निलम्वन के आदेश

बदायूँ………… जिलाधिकारी अनिता श्रीवास्तव ने जिला चिकित्सालय पहुंचकर औचक निरीक्षण किया। इस दौरान साफ-सफाई सही न मिलने पर कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए सफाई कर्मचारी ऊषा को निलम्वित करने के आदेश देने के साथ ही सफाई व्यवस्था के ठेकेदार दूबे को भी अविलम्व मुख्य चिकित्सा अधिकारी के सम्मुख उपस्थित होने के आदेश दिए।
सोमवार को डीएम ने औचक निरीक्षण कर जिला अस्पताल में साफ-सफाई की व्यवस्था में कमी पाए जाने पर तथा कूड़ादान में कूड़ा भरा देखकर तत्काल सफाई कराने के निर्देश दिए। उन्होंने मरीजों से पूछताछ की कि किसी प्रकार का पैसा तो नहीं लिया जाता है, तो राम प्यारी ने शिकायत की कि पांच सौ रुपए लेकर मरीज़ भर्ती किया गया है। डीएम ने डॉक्टरों को कड़ी फटकार लगाते हुए मामले की जांच करने के निर्देश दिए है। उन्होंने निर्देश दिए कि इस मामले में जो भी डॉक्टर दोषी पाया जाता है, उसके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए। अस्पताल में भर्ती होने पर किसी प्रकार का शुल्क यदि  लिया जाए, तो उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही अमल में लाई जाए। विद्युत तारो को खुला हुआ पाए जाने पर उन्होंने असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि वायरिंग तत्काल दुरुस्त कराकर अवगत कराएं। शौचालय की व्यवस्था दुरुस्त न मिलने पर तत्काल सहीं कराकर अवगत कराया जाए, इसमें किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। निरीक्षण के दौरान ईएमओ डॉ.जीके गुप्ता, डॉ. राजेश कुमार वर्मा, डॉ. नितिन कुमार सिंह, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. कप्तान सिंह, स्टाफ नर्स आकांक्षा भट्टाचार्य, मंजू मसीह, विजय लक्ष्मी, ललित कुमार, अमित कुमार, अनिल कुमार, सचिन यादव, आशा देवी, रूचि एडमिन, पूजा सक्सेना, दिपेश कुमार शाक्य, एम्सुलिन खान, नेहा शाक्य, अनुज कुमार, निरज मौर्य, कुमारी बेबी, सुमर भारती, प्राची माहेश्वरी, सुमंगला गुप्ता, नेहा जौन, फार्मासिस्ट शिवम रस्तोगी, ओपीटीओ अजय कुमार, एएच काउंस्लर बृज किशोर, आरएसकेओ नितिन कुमार शर्मा, न्यूटीशियन सुनिता पटेल तथा वार्ड ब्वॉय राजीव गुप्ता अनुपस्थित पाए जाने पर डीएम ने वेतन काटने के आदेश दिए। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी नेमी चन्द्रा तथा मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. प्रवीणा माहेश्वरी सहित अन्य चिकित्सक मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *