कासगंज: किसान पाठषालाओं-द मिलियन फार्मर्स स्कूलों, में किसानों को मिलेगी कृषि सम्बंधी जानकारी, नोडल अधिकारी नामित

कासगंज: जिलाधिकारी आर0पी0सिंह ने बताया कि कृषि निदेषालय, उ0प्र0 शासन के निर्देषानुसार जनपद में किसान पाठषालाओं में किसानों को प्रषिक्षण देने के लिये कृषि तथा कृषि से सम्बंधित तकनीकी जानकारी प्रदान करने हेतु प्रथम माॅड्यूल का आयोजन 05 दिसम्बर से 09 दिसम्बर 2017 तक एवं द्वितीय माॅड्यूल का आयोजन 11 दिसम्बर से 15 दिसम्बर 2017 तक किया जायेगा। जिसके सफल संचालन के लिये 77 मास्टर ट्रेनर्स प्रभारी तथा समस्त न्याय पंचायतों हेतु विकास खण्डवार नोडल अधिकारी नामित कर दिये गये हैं।
        समस्त नोडल अधिकारियों को निर्देषित किया गया है कि उक्त माॅड्यूल प्रत्येक न्याय पंचायत की दो ग्राम पंचायतों में सरकारी विद्यालय परिसर में निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार संचालित किये जायेंगे। पाठषाला का आयोजन अपरान्ह 3 बजे से सायं 4ः30 बजे तक किया जायेगा। किसान पाठषालाओं का उद्घाटन /समापन उपलब्धतानुसार सांसद/ विधायक अथवा जनप्रतिनिधियों द्वारा कराया जाये। मिलियन किसान पाठषाला में अधिक से अधिक किसानों की सहभागिता सुनिष्चित की जाये। इसमें पंजीकृत तथा अपंजीकृत सभी किसान सम्मिलित होंगे। किसान पाठषालाओं में सम्बंधित सचिव ग्राम पंचायत अनिवार्यरूप से उपस्थित रहकर ओडीएफ, मनरेगा, एनआरएलएम आदि विकास योजनाओं की जानकारी किसानों को देंगे।
        निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार किसान पाठषालाओं में प्रथम दिन फसल चक्र, रबी की फसलों, मुख्य प्रजातियों, बीजों पर अनुदान, कृषि विविधीकरण, मृदा स्वास्थ्य सुधार, मृदा हेल्थ कार्ड, प्राकृतिक संसाधनों का संरक्षण एवं जैविक खेती की जानकारी दी जायेगी। दूसरे दिन कृषि निवेष यथा बीज, उर्वरक, कीटनाषक, कृषि यंत्रों, सोलर पम्प, जल प्रबंधन एवं ड्रिप/स्प्रिंकलर सिंचाई, उन्नत पषुपालन, दुग्ध उत्पादन, पषुपालन विभाग की योजनाओं, मत्स्य, कुक्कुट, सूकर पालन की जानकारी दी जायेगी। तीसरे दिन प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, किसान क्रेडिट कार्ड, रूपे कार्ड, मुख्यमंत्री किसान एवं सर्वहित बीमा योजना तथा कृषि विभाग द्वारा किसानों को देय सुविधाओं के बारे में बताया जायेगा। चैथे दिन औद्योगिक फसलों, उद्यान विभाग द्वारा देय सुविधाओं, कृषि, वानिकी, पोस्ट हार्वेस्ट तकनीक, खाद्य प्रसंस्करण के अंतर्गत उत्पादों की ग्रेडिंग, पैकेजिंग, मार्केटिंग, ई बाजार तथा किसानों की आय दोगुना करने की रणनीति तथा पांचवे दिन कृषि रक्षा, एकीकृत जीव प्रबन्धन, कृषि लागत घटाने के उपाय, शासकीय अनुदानों की डीबीटी प्रक्रिया, पारदर्षी किसान सेवा योजना एवं डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर योजनाओं की जानकारी दी जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *