कोरिया: पिकप कीचड़ में फंस जाने की वजह से लोहा चोरों के मंसूबे में फिरा पानी। (वेदप्रकाश तिवारी की रिपोर्ट)

कोरिया / चरचा – सोमवार की रात्रि चरचा थाने के ठीक पीछे स्थित छठ घाट में चोरी का लोहा ले जा रहे पिकप वाहन के कीचड़ में फंस जाने की वजह से लोहा चोरों के मंसूबे में पानी फिर गया और कई क्विंटल वजनी चोरी को लोहा व नई पिकप वाहन छोड़ चोर फरार हो गए। आरटीओ अधिकारी के अनुसार नई पिकअप वाहन क्रमांक सीजी 16 CG 2566 के मालिक गंगा मलिक है। जो मनेंद्रगढ़ के रेलवे बोर्ड में रहने वाले हैं। वाहन में मालिक के नाम के साथ उनका मोबाइल नंबर भी दर्ज है किंतु उस मोबाइल वाहन में संपर्क करने पर फोन रिसीव नहीं किया जा रहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सोमवार की रात्रि चरचा कालरी के डी पॉइंट क्षेत्र मैं रात्रि पल्ली में कार्यरत बेल्ट ऑपरेटर कामता ने रात्रि लगभग 1:30 बजे लगभग 20 लोगों को वहां पड़े लाखों रुपयों के लागत के कीमती बेल्ट लाइन में लगने वाले गियर, पिनियन कन्वेयर बेल्ट आदि सामानों को ले जाते देखा व तत्काल इसकी सूचना चरचा कालरी के सुरक्षा विभाग व पुलिस थाने को दी गई। चरचा पुलिस को अंदाजा नहीं था कि लोहा चोर उनके थाने के पीछे से रास्ते को उपयोग करेंगे। घटना स्थल पर रात्रि 2:00 बजे चरचा पुलिस पर चरचा के विभागीय सुरक्षा गार्ड दूसरे रास्ते से पहुंचे तब तक लोहा चोर सभी सामान गाड़ी में भरकर पास के घने पेड़ों के बीच छिप गए। इस दौरान चोरों ने कुदाल फावड़े से रास्ता भी बनाया है। पुलिस दल के वापस जाने के बाद पिकअप वाहन निकली किंतु बारिश व कीचड़ होने की वजह से छठ घाट के पीछे नाले में फंस गई। गाड़ी फसने के बाद चोरों ने काफी सामान वही उतारकर गाड़ी निकालने की कोशिश की चोरों ने कालरी के कई मीटर लंबे बेल्ट को बिछाकर गाड़ी जाने का रास्ता बनाया, इसके अतिरिक्त दूसरे वाहन को लाकर उक्त पिकप को खींचने की भी कोशिश की गई, किंतु गाड़ी नहीं निकल सकी। इस मशक्कत के दौरान काफी समय बीत गया और सुबह हो गई मजबूरन गाड़ी छोड़कर चोरों को भागना पड़ा। घटना की सूचना कालरी प्रबंधन द्वारा चरचा थाने को दी गई है।

विदित हो कि कोयला चोर व अन्य वारदात करने वाले असामाजिक तत्व चरचा थाने के पीछे के रास्ते को ही ज्यादातर सुरक्षित मानकर उसका इस्तेमाल करते हैं। कुछ वर्ष पूर्व मनेंद्रगढ़ के एक रसूखदार द्वारा चोरी का कोयला शिवपुर से लोड कर थाने के पीछे छठ घाट स्थित रेलवे पुल के नीचे से निकालते समय वाहन फस गई व गाड़ी पकड़ी गई कालरी क्षेत्र में अक्सर वाहनों के फैसले के बाद ही बड़े चोर गिरोह के कारनामों की जानकारी मिलती है।

विभागीय सुरक्षा का अभाव इस घटना के पीछे कालरी के विभागीय सुरक्षा का ना होना मुख्य वजह है। चरचा कालरी के डी पॉइंट वाले क्षेत्र से निरंतर कोयला चोरों द्वारा प्रतिदिन रात को कोयला चोरी की घटना को अंजाम दिया जाता है। इस दौरान दहशत बनाने के लिए कोयला चोर कालरी कर्मियों के ऊपर पथराव कर भय का वातावरण बनाते हैं।
चरचा थाना के थाना प्रभारी सुनील सिंह ने कहा की घटना की जानकारी मिलते ही चारों तरफ से घेराबंदी की गई है और कुछ लोगों को पकड़ने में सफलता मिली है, शीघ्र ही कोयला चोर गिरोह पकड़ में आ जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *