कोरिया: भव्य धान बोनस त्यौहार को गरिमा और उत्साहपूर्वक वातावरण में मनाने के लिए जिला प्रशासन के साथ साथ किसानों को बधाई और शुभकामनांए दी।

कोरिया / प्रदेश के श्रम, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री भईयालाल राजवाड़े की अध्यक्षता में आज जिला मुख्यालय के रामानुज मिनी स्टेडियम में आयोजित बोनस त्यौहार के मुख्य अतिथि प्रदेश के गृह, जेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री रामसेवक पैकरा ने जिले के 11 हजार 47 किसानों के खाते में धान बोनस का आॅनलाईन भुगतान किया।
मुख्य अतिथि पैकरा ने भव्य धान बोनस त्यौहार को गरिमा और उत्साहपूर्वक वातावरण में मनाने के लिए जिला प्रशासन के साथ साथ किसानों को बधाई और शुभकामनांए दी। उन्होनें जिले के लगभग 15 हजार किसानों और ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री डाॅ.रमन सिंह ने किसानों को दीपावली के पहले धान बोनस की राशि देकर दीपावली त्यौहार मनाने का अवसर दिया है। किसान भाई बोनस राशि से दीपावली त्यौहार के साथ अपने घरों में मांगलिक कार्य कर सकेगें। जरूरी समान खरीद सकेगें और जरूरी निर्माण भी करा सकेगें। इस प्रकार मुख्यमंत्री डाॅ.सिंह के पहल पर किसानों के सम्मान में और अधिक वृध्दि हुई है। इस दौरान श्री पैकरा ने जिला प्रशासन द्वारा लगाई गई विभिन्न स्टालों का अवलोकन किया और विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत कई जरूरत की वस्तुओं को प्रदान कर किसानों का मनोबल बढाया।
धान बोनस तिहार कार्यक्रम के अध्यक्ष और श्रम मंत्री भईयालाल राजवाडे ने बोनस तिहार के लिए जिले के किसानों को अपनी ओर से बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होने कहा कि छत्तीसगढ सरकार गांव, गरीब एवं किसानों की सरकार है। उनके आर्थिक स्वावलंबन के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। उन्होने कहा कि धान किसानों की आमदनी का मुख्य जरिया तो है ही इसके अलावा धान हमारी सांस्कृतिक विरासत से भी जुडा हुआ है। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री डाॅ.सिंह द्वारा वर्ष 2016-17 में समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले राज्य के किसानों को 2 हजार 100 करोड रूपये का बोनस दिया जा रहा है। उन्होने कहा कि इस वर्ष 2017-18 में भी किसानों को बोनस दिया जायेगा। उन्होने कहा कि वर्ष 2017-18 में समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले किसानों को बढे हुए समर्थन मूल्य और 300 रूपये प्रति क्विंटल बोनस मिलाकर मोटा धान 1 हजार 850 रूपये और पतला धान 1 हजार 890 रूपये मिलेंगे। उन्होने कहा कि राज्य सरकार द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने का सार्थक प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए विस्तृत कार्यक्रम बनाया गया हैं। उन्होने कहा कि राज्य सरकार की इस कार्ययोजना में सहभागी बनने के लिए किसानो को धान के अलावा दलहन, तिलहन, पशुपालन, मछलीपालन सहित उद्यानिकी की खेती करने की सलाह दी। श्रम मंत्री ने कहा कि सबसे ज्यादा कांग्रेस के लोग को बोनस मिल रहा है, कांग्रेस के लोग दिखावे के दर्द कर रहे है।
आपको बता दे कि प्रदेश की सरकार और प्रशासन को लगता है कि दीपावली त्यौहार में लोगो में खुशियां तो होती ही है लेकिन धान बोनस तिहार ने किसानों में और भी ज्यादा खुशिया ला दी है। धान बोनस त्यौहार के लिए किसान राज्य सरकार को बधाई और शुभकामनाएं दे रहे है पर ऐसा है नही और न ही आज के विशाल कार्यक्रम में ऐसा देखने को मिला। कार्यक्रम में खामियों की बात करें तो ………
राशि पहुँची तो निकलने लगे किसान –
जैसे ही HM ने कम्प्यूटर में क्लिक कर किसानों के खातें में राशि जमा की और किसानों को संबोधित करना शुरू किया तो किसान अपने घरों की ओर जाने लगे। ज्ञात हो कि उद्बोधन समाप्त होने तक आधे से ज्यादा भीड़ समाप्त हो चुकी थी।
मंच पर अफरा तफरी का था माहौल –
बोनस तिहार मनाने आए जिले के किसान और भाजपा कार्यकर्ताओं के मंच में स्वागत दौरान अचानक अफरा तफरी का माहौल बन गया। कुछ महिला कार्यकर्ताओं ने कार्यक्रम के बीच मे भी स्वागत किया।
सांसद नदारत –
एक बार फिर कोरबा लोकसभा क्षेत्र के सांसद का नाम जिला प्रशासन ने आमंत्रण पत्र और फ्लेक्स में छापा था पर इस बार भी पहले की तरह वो कार्यक्रम में नही दिखाई पड़े।
सेल्फी पॉइंट बना मंच –
बोनस तिहार कार्यक्रम के शुरुआत होते ही भाजपा कार्यकर्ता अपने मनपसन्द नेताओं के साथ मंच को ही सेल्फी पॉइंट बना डाला। लगातार एक के बाद एक फोटो शुट भी हुए जो मंच के सामने से देखने मे अच्छा नही लग रहा था।
भेड़ – बकरियों की तरह लाए गए किसान –
बोनस तिहार कार्यक्रम को सफल बनाने जिला प्रशासन ने ऐड़ी चोटी का दम लगा रखा था जो देखने को भी मिला। कार्यक्रम के एक दिन पुर्व ही जिले सहित अन्य जिले से बुलाए गए आरटीओ अधिकारियों द्वारा सैकड़ो वाहनों को नजरबन्द कर लिया गया था और उन्ही वाहनों में किसी भेड़ – बकरियों की तरह किसानों को कार्यक्रम स्थल तक लाया गया। वो तो भगवान का शुक्र है कि किसी अनहोनी की सुचना अभी तक प्राप्त नही हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *