जरीफनगर: तथाकथित पत्रकारों द्वारा देहात में की जा रही अवैध वसूली / शिक्षको मे रोष डीएम साहब से करेंगे शिकायत । (सोमवाीरसिहॅ यादव की रिपोर्ट)

बदायूँ /जरीफनगर / सहसबान के कुछ तथाकथित पत्रकारों द्वारा लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को इस कदर बदनाम किया जा रहा है और पत्रकारिता की छवि को धूमिल किया जा रहा है ।

जिसकी वजह से जो पत्रकार है उनको भी लोग उसी नज़र से देखते है।डीएम साहब को कई बार अवगत कराया गया लेकिन इन फ़र्ज़ी लोगो के खिलाफ आज तक कोई कार्रवाई नही हुई। बात कर रहे है अवैध वसूली की तो विकास खंड दहगवाॅ क्षेत्र के आधा दर्जन गाँव के प्राथमिक विद्यालय व उच्च प्राथमिक विद्यालय काॅकसी कमालनगर जल्लूपुर धोबर खेड़ा धर्मपुर सहसबान भोजीपुरा कोढरा मुहम्मदपुर कूडई सोभनपुर। असलौर क्षेत्र के आदि प्राथमिक विद्यालय विकास उच्च प्राथमिक विद्यालय मे जाकर शिक्षको को मीडे मील न बनने पर साफ सफाई न रखने पर समय पर न आने पर और स्कूल प्रांगण मे पौधारोपण नही किया नौनिहालो की संख्या कम होने पर धमकाना शुरू कर देते है । और धन उगाई की डिमांड करते । तथाकथित पत्रकार और फर्जी आईडी दिखाकर उन सीधे साधे परदेशी अध्यापक अध्यापिकाओ को इतना डराते है कि वो पागल हो जाये उसके बाद उनको ये कहकर छोड़ देते है कि इस बार पाच हजार य तीन हजार दे दो अगली बार अगर लापरवाही की तो सीधे डीएम साहब से पकड़वाएँगे ।डरा सहमा स्टाप उन फ़र्ज़ियो की बातों में आ जाता है और पैसे दे देता है।और वे फर्जी लोग इतना सक्रिय हो गए है कि कभी भी किसी बड़ी घटना को भी अंजाम दे सकते है। आपको अवगत कराते चले
पिछले हफ्ते दो तथाकथित पत्रकार टीवी चैनल व अखबार का नाम लेकर धोबर खेड़ा के प्राथमिक विद्यालय मे और प्रधानाध्यापक से 3500 ठग लाये । सबाल ये उठता क्या तथाकथित पत्रकार को रूपये देने के बाद ये सब लापरवाही पूरी हो गई । पूरी नही और बडी लापरवाही गरीब नौनिहालओ के सामने बड गई । कुछ प्राथमिक विद्यालय व उच्च प्राथमिक विद्यालय से विज्ञापन के नाम से 500 रूपये अखबार के नाम से ठगी की जा रही है क्या 500 रूपये अखबार मे विज्ञापन लगता है नही । ये सब तथाकथित पत्रकार बनकर ठगी की जा रही है पहले भी तथाकथित पत्रकारो के बारे मे स्टाप ने ज़िले के अधिकारियों से इस पूरे मामले की शिकायत भी की है लेकिन देखना ये है की डीएम साहब द्वारा या स्थानीय पुलिस द्वारा इन तथाकथित लोगो के ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई की जाती है जिससे कि स्कूलो से की जा रही अवैध वसूली पर अंकुश लग सके।
क्षेत्र के एक एनपीआरसी जी के आवास पर तथाकथित पत्रकारो की अबैध उगाई से परेशान होकर शिक्षको ने मीटिंग की और कहा की प्राथमिक विद्यालय व उच्च प्राथमिक विद्यालयओ मे कोई भी पत्रकार आये तो पहले बैठने को कहो और उसके बाद पुलिस व उपजिलाधिकरी व एसएसपी महोदय जिलाधिकारी महोदय के लिए तथाकथित पत्रकारो के नाम अवगत करा कर तथाकथित पत्रकारो की वीडियो बनाये ले ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *