बदायूँ: चापलूसों को बाहर का रास्ता दिखा सपा के तीनो युवा प्रकोष्ठों ने घोषित की नयी कार्यकारणी।

बदायूँ:  समाजवादी पार्टी में जिले के कुछ नेताओं की चापलूसी करने वाले चापलूसों को पूर्णतया बाहर का रास्ता देखना ही पड़ गया । समाजवादी लोहिया वाहिनी व मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड के साथ समाजवादी छात्र सभा में भी चापलूसों को जगह नहीं मिल सकी । आज शनिवार को समाजवादी पार्टी के तीनों प्रकोष्ठों के जिलाध्यक्षों ने अपने अपने प्रकोष्ठों की जिला कार्यकारिणी गठित कर दी है ।

चर्चा है कि समाजवादी के इन प्रकोष्ठों में जिले के कुछ नेताओं ने अपने चापलूसों को पदासीन करा दिया था । उन चापलूसों का मकसद पार्टी और संगठन से नहीं बल्कि अपने आकाओं की जी हुजूरी करना था । चर्चा है कि इसी वजह से पार्टी हाईकमान के निर्देश पर समाजवादी पार्टी के तीन युवा प्रकोष्ठों को भंग किया गया था । जिन्हें आज पुनः गठित कर दिया गया है । जिला कार्यकारिणी की जारी लिस्टों में उन चापलूसों का नाम न होना बहुत कुछ बयाँ कर रहा है ।
आज समाजवादी छात्र सभा के जिलाध्यक्ष राजू सिंह यादव द्वारा जारी की गई जिला कार्यकारिणी की लिस्ट के अनुसार अरविंद कुमार सिंह उर्फ पप्पू, विपिन कुमार यादव और इस्तकार को जिला उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया है । वहीं मोहम्मद हनी को महासचिव, राजपाल सिंह को कोषाध्यक्ष और रनवीर सिंह, दुष्यंत कुमार, योगी पटेल, रोहिताश मीणा, परविन्द्र सिंह, फरहान को जिला सचिव के पद पर पदासीन किया गया है । साथ ही रवि कुमार सिंह, दुर्विजय गौतम, अखलेश यादव, मीरेश यादव, फिरोज खाँ, शिवम शर्मा, प्रमोद कुमार यादव, शादाब मिर्जा, विमल सागर, मौअज्जम अंसारी, शुभम वर्मा, ओम यादव को जिला कार्यकारिणी सदस्य के रूप में लिया गया है ।
इसके अलावा समाजवादी लोहिया वाहिनी के जिलाध्यक्ष चौधरी नरोत्तम सिंह यादव ने बताया कि प्रदीप कुमार यादव को जिला उपाध्यक्ष, सालिक खाँन को जिला कोषाध्यक्ष, अजीत कुमार साहू, ठाकुर रवि कुमार, मुकेश राणा, अमित कुमार चौधरी, धर्मेंद्र पाल, पूरन यादव, इन्द्रजीत, अनीस रज़ा खाँन, कुलदीप यादव, मनोज यादव, राहुल गुप्ता, अनिल यादव, चेतन यादव, शारिक खाँन को जिला सचिव के पद पर नियुक्त किया गया है । इसके अलावा करीब 15 युवाओं को जिला कार्यकारिणी सदस्य के रूप में जिम्मेदारी सौंपी गई है । मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के बाद समाजवादी लोहिया वाहिनी और समाजवादी छात्र सभा की जिला कार्यकारिणी में कुछ नाम गायब होने से जिले में चर्चाओं का बाज़ार गर्म है । सभी लोग इसे चापलूसी की सज़ा मान रहे हैं । वहीँ राजीनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा है कि कुछ लोगों ने पार्टी हाईकमान से कुछ लोगों ने अध्यक्ष पद की दावेदारी की थी और अपने अपने आकाओं की जमकर जीहुजूरी की लेकिन फिर भी सफलता नहीं मिल सकी और समाजवादी पार्टी की रीढ़ माने जाने वाले तीनों युवा प्रकोष्ठों के अध्यक्ष अपने पद को बरक़रार रखने में कामयाब रहे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *