बदायूँ: ट्यूबलाइट देख डीएम का चढ़ा पारा

बदायूँ…………जहां एक ओर डीएम ने निर्देशानुसार जिले भर के समस्त कार्यालयों की रंगाई-पुताई कराकर उन्हें व्यवस्थित कर लिया गया है, तो वहीं दूसरी ओर बिसौली के सहायक विकास अधिकारी के कार्यालय में एलईडी बल्ब के स्थान पर ट्यूबलाइट लगी मिल गई, जिसे देख डीएम का पारा चढ़ गया। उन्होंने कड़ी नाराज़गी व्यक्त करते हुए ट्यूबलाइट तुरन्ट हटाकर एलईडी बल्ब लगाने के निर्देश दिए हैं।
गुरुवार को जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने विकास खण्ड बिसौली का निरीक्षण किया। डीएम ने कहा कि कार्यालय परिसर में लगी होर्डिंग्स, तारों को व्यवस्थित करा लें। टूटी बाउंड्री की मरम्मत कराकर शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं की वॉल पेंटिंग कराई जाए। परिसर में व्याप्त गंदगी को देखकर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन नियमित कार्यालय परिसर की सफाई की जाए। निरीक्षण में उन्होंने पाया कि 19 लाख रुपए शेष मिला है, जिस पर डीएम ने निर्देश दिए कि 14वें वित्त आयोग का पैसा अविलम्व विकास कार्यां में लगाएं। उन्होंने कहा कि पशु विभाग के बहुउद्देशयीय सचल पशु सेवा के वाहन गांव में पशु के इलाज के साथ अन्य शासकीय कार्यां का भी निरीक्षण करें एवं जिस व्यक्ति के घर जा रहे हैं उसका मोबाइल नम्बर ज़रूर लाएं। उन्होंने कहा कि ब्लाक में सफाई कर्मचारियों का कंट्रोल रूम बनाया जाए, जिसकी प्रतिदिन मॉनीटरिंग की जाएगी। उन्होंने कहा कि खण्ड विकास अधिकारी की सत्यापन रिपोर्ट के बाद ही डीपीआरओ सफाई कर्मचारियों का वेतन आहरण करें। पंचायत सैक्रेट्री वृद्धावस्था, विधवा एवं विकलांग पेंशन योजना के अन्तर्गत घर-घर जाकर सत्यापन कर 15 दिनां में रिपोर्ट उपलब्ध कराए। मनरेगा तथा आजीविका मिशन के कार्य की स्थिति खराब पाए जाने पर चेतावनी देते हुए 15 दिनों में सुधार लाने के निर्देश दिए। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी बिसौली मु. आवेश, खण्ड विकास अधिकारी ब्रजमोहन अम्बेड तथा उप पशु चिकित्सा अधिकारी डॉ. महावीर सिंह मौजूद रहे। तत्पश्चात प्राथमिक विद्यालय बसई में साफ-सफाई सही न पाए जाने पर रंगाई-पुताई कराने के निर्देश दिए हैं। गांव के गरीब लोगों से कहा कि किसी भी सरकारी योजना के लिए बिचौलियों के चक्कर में न पड़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *