बदायूँ: सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट,तम्बाकू का प्रयोग प्रतिबंधित

बदायूँ……………. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अन्तर्गत कार्यालयों, अस्पतालों, विद्यालयों, थानो एवं पुलिस चौकियों सहित अन्य सार्वजनिक स्थलों पर सिगरेट और अन्य प्रकार के तम्बाकू सेवन का प्रयोग प्रतिबंधित है। इसको अमलीजामा पहनाने के लिए जिला स्तर पर डीएम की अध्यक्षता में सात सदस्यीय प्रवर्तन दल गठित किया गया। इसका उल्लंघन करने पर 200 रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान है।
शुक्रवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभाकक्ष में जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में सिगरेट और अन्य तम्बाकू अधिनियम 2003 के अनुपालन हेतु बैठक आयोजित हुई। डीएम ने निर्देश दिए कि कोई भी अधिकारी एवं कर्मचारी इसका सेवन करेगा तो उसके वेतन से जुर्माना काटा जाएगा। स्कूल-कॉलेज के 100 मीटर के भीतर गुटका एवं सिगरेट की बिक्री प्रतिबंधित रहेगी। डीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि कार्यालय के मुख्य द्वार पर ही धुम्रपान एवं तम्बाकू निषेध का साइनबोर्ड लगाएं। डीएम ने अधिनियम का अक्षरशः अनुपालन कराने हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा अधिकारी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, बेसिक शिक्षा अधिकारी तथा मुख्य खाद्य निरीक्षक को सदस्य के रूप में नामित किया है। तम्बाकू उत्पादक ईकाई निर्धारित प्रारुप पर चेतावनी प्रदर्शित नहीं करती है तो प्रथम बार अपराध पर दो वर्ष की सजा अथवा पांच हजार रुपए जुर्माना या दोनों का प्रावधान है। दूसरी बार अपराध करने पर पांच वर्ष की सजा अथवा दस हजार रुपए जुर्माना या दोनों का प्रावधान है। तम्बाकू उत्पादों से मुँह व फेफड़ो के कैंसर की संभावना बढ़ जाती है तथा श्वांस सम्बंधी रोग हो जाते हैं। तम्बाकू उपयोग से हार्ट अटैक की संभावना बनी रहती है।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा 21 नवम्बर से 04 दिसम्बर तक पुरुष नसबंदी पखवाड़ा मनाया जा रहा है। डीएम ने स्वास्थ्य विभाग की कारगुजारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि पुरुष नसबंदी परिवार नियोजन का स्थाई तरीका है। व्यक्ति को इसका फैसला भलीभांति सोच-समझकर ही लेना चाहिए। पुरुष नसबंदी के सम्बंध में भ्रांति है कि इससे पौरुष शक्ति में कमी आती है, जबकि सत्यता यह है कि इससे पुरुष के स्वास्थ्य, कार्यक्षमता तथा पौरुष शक्ति में कोई भी कमी नहीं आती। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व महेन्द्र सिंह, एसपी आरए सुरेन्द्र प्रताप सिंह, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. नेमी चन्द्रा, सिटी मजिस्ट्रेट राजकुमार द्विवेदी, समस्त उप जिलाधिकारी एवं अधिशासी अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *