मुरादाबाद: इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के पदाधिकारियों ने बाबरी मस्जिद को लेकर सौंपा ज्ञापन। (हिलाल अकवर की रिपोर्ट)

मुरादाबाद/बिलारी l नगर के तहसील परिसर में बाबरी मस्जिद के शहीदी दिवस पर अपनी मांगों को लेकर इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के पदाधिकारियों ने एसडीएम को ज्ञापन सौंपा जिसमें कहा गया है कि बाबरी मस्जिद को मुसलमानों के हवाले किया जाए बुधवार को बाबरी मस्जिद को शहीद हुए एक चौथाई शतक हो चुका है लेकिन कोई भी मसला नहीं समझ सका है इसी को लेकर के ज्ञापन में कहा गया है कि बाबरी मस्जिद राष्ट्रीय धरोहर के रूप में एकता का प्रतीक तथा राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक थी जिसे राष्ट्रद्रोही तत्वों ने तोड़ कर ना केवल राष्ट्रीय एकता और अखंडता को तोड़ने की कोशिश की बल्कि राष्ट्र के गोरव से भी खिलवाड़ किया 6 दिसंबर 1992 ईस्वी को भारत के इतिहास में सदैव के लिए एक काला दिवस के रुप में याद किया जाएगा सबसे ज्यादा अफसोस जनक पहलू यह है कि इतनी बड़ी राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय दुर्घटना के बाद भी सरकार की ओर से आज तक कोई भी रचनात्मक कार्यवाही नहीं की गई है ना तो बाबरी मस्जिद के पुनर्निर्माण के लिए कोई कार्यवाही की गई जबकि देश के तत्कालीन प्रधानमंत्री ने पूरे देश से बाबरी मस्जिद पुनर्निर्माण का वादा किया था और ना ही बाबरी मस्जिद तोड़ने वालों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया बाबरी मस्जिद मामले में सरकार ने नेहरू लियाकत जैसे समझौते अंतरराष्ट्रीय समझौते का उल्लंघन किया है बाबरी मस्जिद शीघ्र ही मुसलमानों के हवाले की जाए जिस से मुसलमान उस का पुनर्निर्माण मस्जिद किस स्थान पर बनी मंदिर पर प्रतिबंध लगाया जाए तथा पूजा पाठ बंद की जाए लिब्राहन कमीशन की रिपोर्ट के आधार पर बाबरी मस्जिद तोड़ने वाले के खिलाफ जल्द से जल्द कड़ी कार्रवाई की जाए राम मंदिर निर्माण पहरी की आड़ में देश के संविधान अदालत की अवमानना करने एवं देश में अराजकता पैदा करने वालों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्यवाही की जाए ज्ञापन में शमशाद हुसैन मोहम्मद अहमद मोहम्मद यासीन मोहम्मद रफी गुलाम मुस्तफा साबरी छोटू अरशद मुस्तफा अंसारी अमजद हुसैन और मोबीन हुसैन मास्टर फहीम मुशर्रफ जिला महासचिव मुस्लिम लीग आदि के हस्ताक्षर थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *