मुरादाबाद: केंद्र सरकार किसान विरोधी – अन्ना हजारे (हिलाल अकबर की रिपोर्ट)

मुरादाबाद बिलारी । समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा कि सरकार के किसान विरोधी होने के कारण होने के कारण अभी तक स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू नहीं किया गया किसान हित में इसे लागू करना बेहद जरुरी है वह रविवार को नगर में समाजसेवी राकेश रफी के आवास पर पत्रकार वार्ता में कहा कि 22 साल में करीब 12 लाख किसानों ने आत्महत्या कर ली अगर स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू नहीं करना था तो सरकार ने आयोग का ही क्यों गठन किया आयोग को नियुक्त करने में सरकार ने पैसा खर्च किया सरकारी पैसा का दुरुपयोग किया गया इसको लेकर 23 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में आंदोलन किया जाएगा। रविवार को अन्ना हजारे बिलारी में थे उन्होंने कहा कि सरकार स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू करने के लिए हर हाल में झुकेगी । 23 मार्च को भगत सिंह की शहादत पर धरना होगा उन्होंने केंद्र की भाजपा सरकार को धोखे वाली सरकार बताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जो बोलते हैं वह करते नहीं है सरकार ने किसानों के लिए आज तक कुछ नहीं किया । अब वक्त है कि किसान को ही संसद तक भेजना होगा कहां की उनके आंदोलन के तहत सरकार को भूमि अधिग्रहण बिल वापस लेना पड़ा लिहाजा इस आंदोलन के बाद सरकार को झुकना होगा वही कहा कि इस आंदोलन में उन साथियों को साथ नहीं मिलेंगे जो राजनीतिक हो गए हैं यहां पर भाकियू नेता चौधरी हरपाल सिंह, चौधरी महक सिंह, नोमान जमाल, रंजीत सिंह, डॉ मीनाक्षी सखी, संजय सामाजिक, रोहन सामाजिक ,डॉ राकेश रफीक आदि सहित अनेको मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *