मुरादाबाद: बिलारी में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के मौके पर प्रतिमा पर किया माल्यार्पण। (हिलाल अकबर की रिपोर्ट)

मुरादाबाद/बिलारी। नगर के सुभाष चंद्र बोस पार्क में बनी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा पर मोहम्मद इरफान रॉयल गर्ल्स डिग्री कॉलेज की छात्राओं एवं कॉलेज स्टाफ द्वारा  माल्यार्पण किया गया मंगलवार को कार्यक्रम में कालेज के प्राचार्य डॉ राकेश रफीक ने बोलते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1897 को ओडिशा के कटक नामक स्थान पर हुआ था नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने सिविल सर्विस की परीक्षा में चतुर्थ स्थान प्राप्त किया नेताजी के नाम से प्रसिद्ध सुभाष चंद्र बोस ने शपथ क्रांति द्वारा भारत को स्वतंत्र कराने के उद्देश्य से 21 अक्टूबर 1943 को आजाद हिंद सरकार की स्थापना की तथा आजाद हिंद फौज का गठन किया इस संगठन के प्रतीक चिन्ह पर एक झंडे पर दहाड़ते हुए बाघ का चित्र बना होता था नेताजी अपनी आजाद हिंद फौज के साथ 4 जुलाई 1944 को बर्मा पहुंचे। यहीं पर उन्होंने अपना प्रसिद्ध नारा ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा” दिया। प्रवक्ता प्रशांत गुप्ता ने बताया कि 18 अगस्त 1945 को जापान जाते समय ताइवान के पास नेताजी का एक हवाई दुर्घटना में निधन हुआ बताया जाता है। लेकिन उनका शव नहीं मिल पाया। नेताजी की मौत के कारणों पर आज भी विवाद बना हुआ है इस अवसर पर छात्रा मैसर, फिजा मलिक, निशा परवीन, उम्मे रूमान ,रानी कुमारी, खदीजा तुल कुबरा, मुनाजरा बी, सुमायला बी, रेशमा परवीन ,रिजवाना, निशा खातून ,रिहाना मलिक, शाइन फातिमा ,सना मलिक, ज्योति आदि ने भी विचार रखे इस दौरान मोहम्मद आसिफ कमल एडवोकेट ने भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जीवनी पर प्रकाश डाला इसके अलावा प्रवक्ता अब्दुल कुद्दूस ने कविता सुनाई। कार्यक्रम में डॉक्टर राकेश रफीक, प्रशांत गुप्ता, राखी कुमारी ,गरिमा पाठक, आसी नाज आदि का सहयोग रहा
उधर सामाजिक कार्यकर्ता संगठन के प्रवक्ता नोमान जमाल ने भी अपने साथियों के साथ नेताजी सुभाष चंद्र बोस पार्क पर पहुंचकर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और संगोष्ठी कर कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस देश का गौरव है आजादी की लड़ाई लड़ने वाले क्रांतिकारियों में बह पहले ऐसे व्यक्ति रहे जिन्हें नेताजी का खिताब मिला और भारतीय सेना एवं आजाद हिंद फौज सरकार का गठन किया इस मौके पर बबलू मसूदी, नबी हसन, अमित, विजेंद्र ,सलीम, समीर, साहिब ए आलम ,शकील, शानू आदि सहित अनेको लोग मौजूद रहे।

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *