मेला ककोड़ा : देवी मंदिर से मेला पहुँची झण्डी , जिला पंचायत अध्यक्ष, डीएम,  एसएसपी  ने  मेला  स्थल  पर  की  तैयारियों  की  समीक्षा

                         गंगा पूजन के साथ मिनी कुम्भ का आगाज़
बदायूँ : पतित पावनी गंगा तट पर लगने वाले रूहेलखण्ड के मिनी कुम्भ के मेला ककोड़ा की सोमवार को विधि विधान से शुरूआत हो गई है। मेले में ककोड़ा देवी मंदिर से पूजन के बाद झण्डी स्थापना और हवन पूजन के साथ ही मेला औपचारिक रूप से शुरू हो गया है। प्रदेश के पंचायती राज मंत्री रामगोविन्द चौधरी एवं सांसद धर्मेन्द्र यादव 12 नवम्बर को विधिवत् मेले का उद्घाटन करेंगे। मेले में पॉलीथिन, जुआ, शराब तथा मांस का प्रयोग पूर्णतयः प्रतिबंध रहेगा। मेला स्थल को खुले में शौच मुक्त बनाने हेतु विशेष प्रयास किए जा रहे हैं।
जिला पंचायत अध्यक्ष मधु चन्द्रा, बिसौली विधानसभा क्षेत्र के विधायक आशुतोष मौर्य सहित जिलाधिकारी पवन कुमार, एसएसपी महेन्द्र यादव, मुख्य विकास अधिकारी अच्छे लाल सिंह यादव ने सोमवार को गंगा तट पर पहुंचकर पूजा अर्चना करने के बाद गंगा पूजन कर मेले का शुभारम्भ किया। तत्पश्चात जिलाधिकारी, एसएसपी ने मेला स्थल पर तैयारियों की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने मेले में मांस, मदिरा की बिक्री एवं उपभोग पर प्रतिबन्ध लगाने के निर्देश देते हुए पॉलीथिन और जुए पर रोक लगाने को कहा है। उन्होंने मेले को खुले में शौच से मुक्त रखने हेतु विशेष प्रयास करने की हिदायत दी है। उन्हांने श्रद्धालुओें के लिए बेहतर मनोरंजन की व्यवस्था कराने हेतु निर्देश दिए और कहा कि मेले में साफ सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए। सरकारी विभागों द्वारा मेले में विकास प्रदर्शनी भी लगाई जाएंगी। पेयजल तथा प्रकाश व्यवस्था जिला पंचायत द्वारा कराई जा रही है। जिलाधिकारी ने श्रद्धालुओं की सुविधार्थ यातायात व्यवस्था बेहतर बनाए रखने हेतु एआरटीओ तथा सहायक क्षेत्रीय प्रबन्धक रोडवेज को हिदायत दी है कि पर्याप्त संख्या में रोडवेज तथा प्राईवेट बसों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। पशुओं के इलाज के लिए अस्थाई पशु चिकित्सालय भी खोला जाएगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि मेले मे इस वर्ष राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) को लगाए जाने के साथ ही एलोपैथी के अलावा मेले में प्रथम बार आयुर्वेदिक, यूनानी एवं होम्योपैथी के अस्थाई चिकित्सालयों की स्थापना कराई जाएगी। मेले में 200 अस्थाई शौचालय, आठ मोबाइल शौचालय तथा 350 हैण्डपम्प लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्नानघाट पर महिलाओं के कपड़े बदलने हेतु कम्पार्टमेंट भी बनाए जा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *