कादरचौक: मेला ककोड़ा में मां भागीरथी की महाआरती करते गायत्री परिजन।

बदायूं………….
भूमिपुत्र, गोपालक और गंगा सेवक बनकर दूध और गंगा जल की अमृतधारा को बनाएं सदानीरा
अखिल विश्व गायत्री परिवार की ओर से निर्मल गंगा जन अभियान के अंतर्गत मिनी कुंभ मेला ककोड़ा के मुख्य घाट पर मां भागीरथी की महाआरती की गई। दीपकों की झिलमिलाती रोशनी आकर्षण का केंद्र रही। मातृशक्ति ने जीवनदायिनी मां गंगा का पूजन किया। देवकन्याओं ने दीपदान किया। गायत्री परिजन ‘‘ जय जय गंगे माई की, हिम्मत करो सफाई की‘‘ के जयधोष के साथ गंगा तटों की साफ-सफाई में भी जुटे।
गायत्री परिवार के संजीव कुमार शर्मा ने कहा कि जन्मदात्री मां के बाद गंगा माता, गोमाता और धरती माता ही जीवन पर्यंत तक पालन पोषण करती हैं। इन्हीं स्नेह सलिला मातृशक्तियों की बदौलत आज प्राणी जगत की रक्षा हो रही है। आगामी पीढ़ी सुगंधित स्वांसों को लेकर अपने प्राणों को बचाने में समर्थ हो रही है। इसके बाद भी हम इन माताओं का अस्तित्व खोते जा रहे हैं। युवा योग्यता बढ़ाने, राष्ट्र को सशक्त और समर्थ बनाने के साथ भूमिपुत्र, गोपालक और गंगा सेवक बनकर भारतभूमि की पावन भूमि पर दूध और गंगा जल की अमृतधारा को सदानीरा बनाएं।
रामकिशन ‘नारद‘ ने कहा कि मां गंगा में बासी फूल, पूजा सामग्री और कूड़ा करकट डालकर उसके आंचल को गंदा न करें। गंगा तटों के किनारे खेतों में रासायनिक खादों और कीटनाशक दवाओं का प्रयोग से बचें। गंदे नालों और नालियों के पानी को गंगा में प्रवाहित न करें।
प्रातःकाल मेला ककोड़ा में पहुंचे गायत्री परिजनों ने साफ-सफाई के बाद मां भागीरथी की महाआरती की। अल्लापुर चमारी की पूर्व प्रधान ममता देवी ने मां गंगा का पूजन किया। वेदमंत्रोच्चारण कर देवकन्या दीप्ति शर्मा और सौम्या ने मंगलकामना के साथ दीपदान किया। निर्मल गंगा में दीपकों की झिलमिलाती रोशनी आकर्षण का केंद्र रही। रामवीर सिंह के नेतृत्व में सभी गायत्री परिजनों ने गंगा सफाई अभियान चलाया। इस मौके पर रामवीर सिंह, विजय पाल, गंगाराम, सत्यवीर, दीप्ति, मृत्युंजय शर्मा आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *