सरकार के स्वच्छता आभियान को लगा पलीता/शहर के सभी मुहल्लों में लगे कूड़े के अम्बार/ नालों व नालियों में नही होती सफाई

बदायूँ…………….

उझानी।नगर पालिका प्रशासन की हठधर्मिता एवं अर्कमणता के चलते समूचा नगर बूचड़खाने में तब्दील होकर रह गया है ।नालों एवं नालियों में बजबजाती कीचड़ इस बात का प्रमाण है कि शहर में सफाई व्यवस्था नाम की कोई चीज़ नही है।ऐसा प्रतीत होता है कि मानों यहाँ नगर पालिका प्रशासन सफाई व्यवस्था के मामले में अन्य नगर पालिकाओं की अपेक्षा सबसे पीछे है यही वजह है कि शहर बूचड़खाना बनकर रह गया है।
सरकार स्वच्छता आभियान पर भले ही जोर दे रही हो और सभी सरकारी कार्यालयों में सफाई व्यवस्था को लेकर सजगता बरती जा रही हो लेकिन सरकार के इस फरमान का स्थानीय नगर पालिका प्रशासन पर अभी तक कोई फर्क पड़ता दिखाई नहीं दे रहा है।नागरिकों का कहना है कि यहाँ सफाई व्यवस्था को लेकर हमेशा से अनदेखी की गयी है ।जबकि नागरिकों की मूलभूत सुविधाओ में सफाई व्यवस्था प्रथम वरीयता के रुप में होनी चाहिये।लेकिन पालिका प्रशासन के अडिय़ल रवैये के चलते यहॉं के बाशिंदे मूल भूत सुविधाओं से पूर्णतया वंचित हैं जबकि केन्द्र व प्रदेश सरकार स्वच्छता अभियान का फरमान जारी कर शहरों को क्लीन शहर बनाना चाहती है।सरकार की इस मंशा का पालिका प्रशासन पर कोई असर नही पड़ा है।
यहाँ बताते चलें कि नगर में संक्रामक रोगो की आशंका को लेकर नगरवासी खासे परेशान हैं।पहले इस नगर में संक्रामक रोगों ने अपने पाँव पसारते हुए दर्जनों लोगों को मौत के घाट उतारा था जिससे शहर में हाहाकार मच गया था और सरकारी अस्पताल के अलावा निजी चिकित्सकों के यहां लोगों को शरण लेनी पड़ी थी वहीं साधन समपन्न लोगों ने अपना इलाज बरेली,अलीगढ़ व दिल्ली जैसे बड़े शहरों में कराया था लेकिन पालिका प्रशासन ने शहर में महामारी फैलने के बावजूद कोई सबक नहीं लिया।मुहल्ला बहादुरगंज,गददी टोला,किलाखेड़ा,अहिरटोला,कुरैशियान,अयोध्यागंज,गंजशहीदां,नाझियाई आदि मुहल्लों के व बाशिदे आज भी नरकीय जीवन व्यतीत कर रहे हैं।नागरिकों का कहना है कि मच्छरों का प्रकोप दिन व दिन बढ़ रहा है लेकिन सफाई व्यवस्था के साथ ही कीटनाशक दवाईयों का छिड़काव न होने से शहर फिर से संक्रामक रोगों की चपेट में आ सकता है जिससे इन्कार नही किया जा सकता।नगर के वाशिंदों ने शहर में व्याप्त गन्दगी को लेकर चिन्ता जतायी है और जिला अधिकारी से सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराने की माँग की है।

रिपोर्टर अंजार अहमद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *