बदायूँ: जन्मदिवस विशेष ६ जुलाई/संवेदनाओं के कवि डॉ उर्मिलेश

बदायूँ: डॉ उर्मिलेश कुमार शंखधार हिंदी साहित्य का चिरपरिचित नाम हैं ! बदायूँ (उत्तर प्रदेश)के क़स्बे इस्लामनगर में ६ जुलाई १९५१ जन्मे डॉ उर्मिलेश हिंदी गीतों के पर्यायवाची हैं। सामाजिक विसंगतियों,रिश्तों,देश भक्ति,प्रेम,सौहार्द,समरसता,भक्ति,जाग्रति,एकता,मानवीय संवेदना जीवन दर्शन आदि अनेकों पहलुओं को उन्होंने अपनी रचनाओं में व्यक्त किया है। हिंदी काव्य मंचों पर अपने व्यक्तित्व और ओजपूर्ण रचनाओं से श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध […]

Read more

पुजारी हैं वही जो राष्ट्र का गुणगान करते हैं-अमन मयंक शर्मा

महान क्रांतिकारी देशभक्त पं चंद्रशेखर आज़ाद की जयंती  की पूर्व संध्या पर साहित्य दर्पण संस्था के अध्यक्ष अमन मयंक शर्मा के संयोजन में  मोहल्ला चौबे में एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया।गोष्ठी का शुभारम्भ मुख्य अथिति संस्था संरक्षक दिनेश चंद्र शर्मा ने माँ सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलन कर किया ।इसके बाद उपस्थित सभी साहित्यकारों एवं कवियों […]

Read more

जल की बचत बेहद जरूरी-अमन मयंक शर्मा।।

बदायूँ……….भारतीय संगोष्ठक संस्था के संयोजक सामाजिक कार्यकर्ता अमन मयंक शर्मा के नेतृत्व में मोहल्ला चौबे स्थित अमन हाउस पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया।गोष्ठी को संबोधित करते हुए संस्था के संयोजक अमन मयंक शर्मा ने कहा कि जल ही जीवन है,बिना जल के मानव जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती।जनता द्वारा जल के दुरूपयोग से  पीने वाले जल […]

Read more

पुजारी हैं वही जो राष्ट्र का गुणगान करते हैं-अमन मयंक शर्मा।।।

बदायूँ…………साहित्य दर्पण संस्था एवं श्याम मनोहर जन सेवा समिति के संयुक्त तत्वाधान में मोहल्ला चौबे स्थित अमन हाउस पर अमर क्रन्तिकारी देशभक्त पं रामप्रसाद बिस्मिल की जयंती के उपलक्ष्य में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ श्याम मनोहर जन सेवा समिति के अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा, ब्राह्मण महासभा के प्रदेश  उपाध्यक्ष वीरेंद्र पाठक एवं कार्यक्रम आयोजक अमन […]

Read more

दिल्ली: आचार्य नित्यानंद सूरी का संयम अर्द्धशताब्दी महोत्सव 2 जुलाई से प्रारंभ नई दिल्ली, 9 जून 2017

शांतिदूत एवं जैन समाज के शीर्ष गच्छाधिपति आचार्य श्रीमद् नित्यानंद सूरीश्वरजी के संयम अर्द्धशताब्दी महोत्सव का भव्य वार्षिक आयोजन 2 जुलाई 2017 को नई दिल्ली में प्रारंभ होगा। एक वर्ष तक चलने वाले इस महोत्सव का शुभारंभ तालकटोरा स्टेडियम में प्रातः 10ः00 बजे होगा जिसमें अनेक केन्द्रीय मंत्री, विशिष्ट राजनेता, संतपुरुष, साहित्यकार, पत्रकार आदि भाग लेंगे। देश भर से बड़ी […]

Read more

साप्ताहिक  काव्य निशा का हुआ  आयोजन/साथ मेरे हर वक़्त मेरी माँ का साया है-अमन मयंक शर्मा।

(अमन मयंक शर्मा) साहित्य दर्पण संस्था के तत्वाधान में मोहल्ला महाराजनगर में संस्था के साप्ताहिक कार्यक्रमानुसार  साप्ताहिक काव्य निशा का आयोजन किया गया।कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अथिति  समाजसेवी दिनेश  चंद्र शर्मा,कार्य्रकम अध्यक्ष कवि कामेश पाठक एवं विशिष्ट अथिति रामदेवी शर्मा ने माँ सरस्वती  के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ववलन कर किया।कवि आदर्श कुमार समय ने माँ सरस्वती की वंदना गान […]

Read more

राणा प्रताप की खुद्दारी,भारत माँ की पूँजी है।ये वो धरती है जहाँ कभी,चेतक की टाँपे गूंजी हैं।।।  

महाराणा प्रताप विकास ट्रस्ट एवं साहित्य दर्पण संस्था के संयुक्त तत्वाधान में  महाराणा प्रताप जयंती एवं भगवान् बुध्द जयंती के उपलक्ष्य में हरिप्रताप सिंह राठौर के आवास पर एक काव्य संध्या का आयोजन किया गया।काव्य संध्या का आयोजन कार्यक्रम के मुख्य अथिति बाबा धनपाल सिंह,विशिष्ट अथिति राजपाल सिंह चौहान,कार्यक्रम अध्यक्ष विष्णु गोपाल अनुरागी,कार्यक्रम आयोजक हरिप्रताप सिंह राठौर एवं कार्यक्रम संयोजक […]

Read more

चंदे की पारदर्शिता के लिये क्राउडफंडिंग -ललित गर्ग

नई दिल्ली………. विदेशी चंदा नियमन कानून के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाले बीस हजार गैर सरकारी संगठनों को विदेश से पैसा लेने के अयोग्य करार देने का फैसला यही बता रहा है कि सेवा के नाम पर हमारे देश में किस तरह का गोरखधंधा जारी था। न केवल विदेशी चंदा बल्कि देश में ही सेवा एवं जनकल्याणकारी प्रवृत्तियों एवं धार्मिक […]

Read more

कैलेण्डर ही नहीं, तकदीर भी बदले: (ललित गर्ग)

दिल्ली: एक और वर्ष अलविदा हो रहा है और एक नया वर्ष चैखट पर खड़ा है। उम्र का एक वर्ष खोकर नए वर्ष का क्या स्वागत करें? पर सच तो यह है कि वर्ष खोया कहां? हमने तो उसे जीया है और जीकर हर पल को अनुभव में ढाला है। अनुभव से ज्यादा अच्छा साथी और सचाई का सबूत कोई […]

Read more

देने की खुशी का सप्ताह- 2 अक्टूबर-8 अक्टूबर 2016 दान उत्सव- परोपकार की खुशी का जीवन

हर वर्ष महात्मा गांधी की जन्म जयन्ती से एक सप्ताह तक दान उत्सव- यानी देने, परोपकार करने की खुशी एवं प्रसन्नता का सप्ताह मनाया जाता है। दान देने की परम्परा हमारे यहां प्राचीन काल से है, लेकिन उसको एक त्योहार एवं उत्सव की शक्ल सन् 2009 से दी गयी है, इस एक सप्ताह में रिक्शा चलाने वाले से लेकर बड़ी-बड़ी […]

Read more
1 2