राम स्वरुप तुम्हार…. विपर्णा शर्मा

राम कहाँ बसते हैं…बाबा तुलसी ने स्वाभाविक उत्तर दिया….”पूर्णतः समर्पित हृदय में”…. राम स्वरुप तुम्हार बचन अगोचर, बुद्धिपर। अबिगत अकथ अपार “नेति नेति”नित निगम कह ।। राम स्वरुप तुम्हार…. सुनहु राम अब कहउँ निकेता। जहाँ बसहु सिय लखन समेता।। जिन्हके श्रवण समुद्र समाना। कथा तुम्हारी सुभग सरि नाना।। भरहिं निरंतर होहिं न पूरे। तिन्हके हिय तुम कहुँ गृह रूरे।। लोचन […]

Read more

श्री राम और महादेव का असीम प्रेम…. विपर्णा शर्मा

श्री विष्णु ने नारद जी से कहा है….. कोउ नहीं शिव सामान प्रिय मोरें। असि परतीति तजहु जनि भोरें।। जेहि पर कृपा न करहिं पुरारी। सो न पाँव मुनि भगति हमारी।। अर्थ… भगवान नारद मुनि से बोले की हे नारद! महादेव के समान मुझे कोई भी प्रिय नहीं है…इस विश्वास को तुम भूलकर भी मत छोड़ना…और फिर कहते हैं कि […]

Read more

बदायूँ: जन्मदिवस विशेष ६ जुलाई/संवेदनाओं के कवि डॉ उर्मिलेश

बदायूँ: डॉ उर्मिलेश कुमार शंखधार हिंदी साहित्य का चिरपरिचित नाम हैं ! बदायूँ (उत्तर प्रदेश)के क़स्बे इस्लामनगर में ६ जुलाई १९५१ जन्मे डॉ उर्मिलेश हिंदी गीतों के पर्यायवाची हैं। सामाजिक विसंगतियों,रिश्तों,देश भक्ति,प्रेम,सौहार्द,समरसता,भक्ति,जाग्रति,एकता,मानवीय संवेदना जीवन दर्शन आदि अनेकों पहलुओं को उन्होंने अपनी रचनाओं में व्यक्त किया है। हिंदी काव्य मंचों पर अपने व्यक्तित्व और ओजपूर्ण रचनाओं से श्रोताओं को मन्त्र मुग्ध […]

Read more

करवा चौथ का पर्व व्रत व पूजा अर्चना कर मनाया जाता है।

बदायूँ…………..(रिपोर्टर अंजार अहमद) उझानी हिंदू धर्म में त्योहारों को बहुत अधिक मान्यता दी जाती है हिंदू धर्म में गणेश चतुर्थी के पश्चात त्योहारों के मौसम की शुरुआत हो जाती है इसी तरह कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को किया जाने वाला उपवास सुहागिन स्त्रियों के लिए होता है। इस दिन को करवा चौथ का व्रत बोला जाता है […]

Read more

महागौरी माँ कल्याणकारी एवं सर्वसिद्धि दाता- अमन मयंक शर्मा।

श्री माँ दुर्गा भक्त मण्डली द्वारा मोहल्ला चौबे स्थित प्राचीन ब्रहमदेव मंदिर एवं नगला मंदिर में गुप्त नवरात्रों की दुर्गाष्टमी  के उपलक्ष्य में माँ दुर्गा एवं माँ महागौरी  की विशेष पूजा अर्चना की गयी।श्री माँ दुर्गा भक्त मण्डली के सचिव पं अमन मयंक शर्मा ने बताया कि भक्तों द्वारा सुबह 7 बजे से लेकर 9 बजे तक माँ दुर्गा,माँ दुर्गा […]

Read more

भगवान परशुराम का इतिहास कथा एवम जयंती

परशुरामजी का उल्लेख रामायण, महाभारत, भागवत पुराण और कल्कि पुराण इत्यादि अनेक ग्रन्थों में किया गया है। वे अहंकारी और धृष्ट हैहय वंशी क्षत्रियों का पृथ्वी से २१ बार संहार करने के लिए प्रसिद्ध हैं। वे धरती पर वैदिक संस्कृति का प्रचार-प्रसार करना चाहते थे। कहा जाता है कि भारत के अधिकांश ग्राम उन्हीं के द्वारा बसाये गये। वे भार्गव गोत्र की सबसे आज्ञाकारी सन्तानों में […]

Read more

भगवान परशुराम ने क्यों किया था 21 बार क्षत्रियों का संहार ?

भगवान परशुराम को भगवन विष्णु का छठवां अवतार माना जाता हैं।  भगवान परशुराम के बारे में यह प्रसिद्ध है कि उन्होंने तत्कालीन अत्याचारी और निरंकुश क्षत्रियों का 21 बार संहार किया। लेकिन क्या आप जानते हैं भगवान परशुराम ने आखिर ऐसा क्यों किया? इसी का जवाब देती है एक रोचक पुराण कथा – महिष्मती नगर के राजा सहस्त्रार्जुन क्षत्रिय समाज के […]

Read more

हनुमान जयंती को कब और कैसे मनाते हैं

बदायूँ………….. हनुमान जंयती………………. हनुमान जयंती भारत में लोगों के द्वारा हर साल, हिन्दू देवता हनुमान जी के जन्म दिवस को मनाने के उपलक्ष्य में मनाई जाती है। भारतीय हिन्दी कैलेंडर के अनुसार यह त्योहार हर साल चैत्र (चैत्र पूर्णिमा) माह के शुक्ल पक्ष में 15वें दिन मनाया जाता है। हनुमान जयंती को कब और कैसे मनाते हैं……………….. प्रभु श्री हनुमान, […]

Read more

आखिर क्यू मनाते है धनतेरस: धनतेरस की पौराणिक कथा:–

लेखक: (शैलेन्द्र कुमार सिंह) कथा:एक बार यमराज ने अपने दूतों से प्रश्न किया- क्या प्राणियों के प्राण हरते समय तुम्हें किसी पर दया भी आती है? यमदूत संकोच में पड़कर बोले- नहीं महाराज! हम तो आपकी आज्ञा का पालन करते हैं। हमें दया-भाव से क्या प्रयोजन? यमराज ने सोचा कि शायद ये संकोचवश ऐसा कह रहे हैं। अतः उन्हें निर्भय […]

Read more

जानें, अमरनाथ के पवित्र गुफा में कैसे होता बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग का निर्माण

अमरनाथ धाम श्रद्धालुओं के लिए धार्मिकमहत्व और पुण्य की यात्रा है। जिसने भी इस यात्रा के बारे में जाना या सुना है, वह कम से कम एक बार जाने की इच्छा जरूर रखता है। आषाढ़ पूर्णिमा से शुरू होकर रक्षाबंधन तक पूरे सावन महीने में पवित्रहिमलिंगदर्शन के लिए श्रद्धालुयहां आते हैं। अमरनाथ यात्रा का नाम सुनते ही भोले बाबा शिव […]

Read more