मुरादाबाद: निर्धारित स्थान पर नहीं चल रही आधार मशीनें, कर रहे हैं अवैध बसूली। (हिलाल अकबर की रिपोर्ट)

मुरादाबाद/बिलारी। आधार कार्ड को संचालित करने वाली संस्था यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया को 115 करोड़ से अधिक आधार कार्ड बनवाए जाने के बाद धांधली भ्रष्टाचार नजर आया है इसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाए गए हैं कॉमन सर्विस सेंटर की आधार बनाने की मशीनें निरस्त कर दी गई है तहसील क्षेत्र में भी सीएससी पर संचालित आधार कार्ड मशीनें बंद है यह कदम इसलिए उठाया गया है कि निरंतर शिकायतें मिल रही थी कि सीएससी आधार का रजिस्ट्रेशन करने के लिए 50 से ₹200 तक वसूल रहे हैं शिकायतें हैं यूं तो सच्चाई के करीब थी किंतु यूआईडीएआई को इस पर निर्णय लेने में समय बहुत लगाओ जबकि 90% से अधिक आधार कार्ड बन चुके हैं तो व्यवस्था की गई है कि सरकारी कार्यालय से ही आधार बनाने की मशीनें संचालित होंगी इसके लिए बैंकों उपडाकघर को प्राथमिकता दी जा रही है इसमें आधार का रजिस्ट्रेशन निशुल्क किया जाएगा ब संशोधन पर ₹20 शुल्क लिया जाएगा भारतीय स्टेट बैंक की शाखा बिलारी को आधार कार्ड के संचालन का रजिस्टर बाप पंजीकरण एजेंसी बनाया गया है बताया जाता है कि आधार कार्ड का फर्जीवाड़ा इस काले कदम के बाद भी नहीं थमा है इसमें क्षेत्रीय रजिस्टर SBI यूआईडीएआई की भूमिका भी संदिग्ध प्रतीत हो रही है क्योंकि आधार मशीन में GPS सिस्टम लगा है जिससे मशीन की लोकेशन को देखा जा सकता है इसके बावजूद भारतीय स्टेट बैंक शाखा बिलारी में अभी तक आधार कार्ड का रजिस्ट्रेशन शुरू नहीं हुआ है एक जागरूक नागरिक ने इस बाबत शाखा प्रबंधक से जानकारी की तो उन्होंने बताया कि आधार कार्ड की मशीन अभी चालू नहीं की गई है जबकि आधार कार्ड की मशीन State Bank के नाम से रजिस्टर है बताया जाता है कि मशीन चालू है और उससे आधार रजिस्टर भी किए जा रहे हैं इसके अलावा अवैध रूप से चल रही इस मशीन सुपरवाइजर द्वारा मोटी रकम आधार रजिस्ट्रेशन कि लोगों से वसूली की जा रही है भ्रष्टाचार का यह है खेल एक साजिश योजनाबद्ध चल रहा है क्योंकि पहले तो जनसेवा केंद्रों से संचालित आधार मशीन बंद कर दी गई अब लोगों की मजबूरी है कि वह उसी स्थान पर आधार रजिस्ट्रेशन व अन्य संबंधित कार्य कराएं और उसकी मनमाफिक रकम अदा करें यह मामला अब जागरुक सामाजिक आंदोलनकारी संगठनों की पहुंच से दूर है क्योंकि उनके सभी के आधार बन चुके हैं जो लोग मनमाना अवैध उगाही का भुगतान कर रहे हैं वह बहुत मजबूर लाचार हैं आधार कार्ड उसे ऐसी जगह जमा करना है कि उसका कोई महत्वपूर्ण कार्य आधार के बिना रुक जाएगा संचार क्रांति पर डिजिटल इंडिया के इस युग में इतनी बड़ी धांधली अवैध किरत इतनी खूबसूरती से संचालन किया जा रहा है इस बाबत एक पत्र जिला अधिकारी को सूचना कानून जागरूकता समिति के अध्यक्ष मोहम्मद आसिफ कमल एडवोकेट द्वारा प्रेषित किया गया है जिसमें उक्त मामले की उच्च स्तरीय जांच कराए जाने एवं कड़ी कार्यवाही किए जाने की मांग की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *