बिल्सी: गुधनी निवासी प्रसिद्ध समाज सुधारक आचार्य संजीव रूप का दिल्ली में हुआ भव्य स्वागत व अभिनंदन

बदायूँ/बिल्सी: दिल्ली की नया बांस आर्य समाज द्वारा सात दिवसीय सरस वेद कथा व सामवेद पारायण यज्ञ का आयोजन किया गया । जिसके ब्रह्मा  आस्था TV के संत सुप्रसिद्ध समाज सुधारक आचार्य संजीव रूप  ने दिल्ली वासियों को वेद की गूढ़ बातें बताते हुए यज्ञ के मर्म को समझाया और कहा कि वेद मंत्रों में हमारे जीवन के सब विधि कल्याण का समाधान है । उन्होंने कहा कि  वेदों में नारियों को पुरुषों के बराबर स्थान दिया गया है ! स्त्री पुरुषों से बढ़ कर के तो हो सकती है पर कम नहीं, इसलिए नारी जाति को पर्दे घूंघट में रखना ,भोग की वस्तु समझना ,उसे शिक्षा आदि से वंचित रखना एक बहुत बड़ी सामाजिक बुराई है और समाज के लिए एक अभिशाप है!  उन्होंने कहा कि नारियों को यदि अधिकार मिले तो वह हर क्षेत्र में पुरुषों से कहीं ज्यादा मर्यादित समर्पित और कर्मठ हो सकती है! उन्होंने कहा कि जातिवाद और जन्मना वर्णवाद ने आर्यावर्त देश को और आर्य जाति को पतित कर दिया है ! जाति और वर्ण कर्म से होते थे , होते हैं किंतु हमारे धर्म अधिकारियों ने जाति और वर्ण को भी आरक्षण  में समेट कर समाज को भ्रष्ट कर दिया। जिस कारण अनेक प्रकार की कुरीतियों ने जन्म लिया  जिनमें पत्थर व कब्र पूजा, अवतारवाद ,फलित ज्योतिष ,मिथ्या अहिसावाद, कन्या भ्रूण हत्या, जातिवाद, छुआछूत आदि अनेक प्रकार के सामाजिक रोग पैदा हुए ।इन सब का इलाज केवल वैदिक धर्म है , वेद मत है। जिसको धारकर, जिस पर चलकर संपूर्ण मानव जाति सुखी हो सकती है ।आचार्य संजीव रूप का इस अवसर पर भव्य स्वागत और अभिनंदन किया गया।

(नईम अब्बासी रिपोटर)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *