बदायूँ: आर टी आई प्रशिक्षण शिविर एवं होली मिलन कार्यक्रम आयोजित।

बदायूँ: सन्गठन के विस्तार की बनी रुपरेखा/गले मिलकर व्यवस्था सुधार के अभियान को सुदृढ़ बनाने का लिया संकल्प।
भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में सूचना कार्यकर्ता प्रशिक्षण शिविर एवं होली मिलन कार्यक्रम का आयोजन अभियान के कार्यालय पर आयोजित किया गया।
अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने उपस्थित सूचना कार्यकर्त्ताओं को प्रशिक्षण देते हुए बताया कि शासन व प्रशासन की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता व जबाबदेही लाकर भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाकर सुशासन एवं गुड गवर्नेंस लाने का एक शक्तिशाली माध्यम  सूचना का अधिकार है , सूचना का अधिकार एक मूलभूत अधिकार है। सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 एवं उत्तर प्रदेश सूचना का अधिकार नियमावली 2015 एक क्रान्तिकारी अधिनियम व नियमावली है , इसके क्रियान्वयन का  दायित्व जन सूचना अधिकारियों एवं प्रथम अपीलीय अधिकारियों का है।
श्री राठोड़ ने बताया कि सूचना मांगे जाने हेतु नियमावली में प्रारूप निर्धारित किया गया है। निर्धारित प्रारूप पर निर्धारित शुल्क के साथ आवेदन करने पर विहित अवधि तीस दिन में सूचना प्राप्त न होने पर प्रथम अपीलीय अधिकारी के समक्ष निर्धारित प्रारूप पर तीस दिन की अवधि में अपील प्रस्तुत की जायेगी। जनसूचना अधिकारी और प्रथम अपीलीय अधिकारी के नाम, पदनाम और पते मोबाइल नंबर सहित विभाग के कार्यालय पर अंकित किया जाना आवश्यक है ।प्रथम अपील का भी निर्धारित प्रारूप है।प्रथम अपील निस्तारित होने के बाद तीन माह की अवधि में द्वितीय अपील निर्धारित प्रारूप पर तीन प्रतियों में राज्य सूचना आयोग में प्रस्तुत की जा सकती है। विहित अवधि में सूचना उपलब्ध न कराने वाले जन सूचना अधिकारियों के विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही की भी व्यवस्था है। सूचना कार्यकर्त्ताओं की सुरक्षा का दायित्व पूरी तरह जिला प्रशासन का है। सूचना के अधिकार का प्रयोग करके प्रत्येक जागरूक नागरिक व्यवस्था की निगरानी कर सकता है।
प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रमुख रूप से सुरेश पाल सिंह, आजाद सक्सेना, मनसुखलाल गुप्ता, सुरेश चंद्र गुप्ता,डाल भगवान सिंह, जयकिशन लाल शर्मा, एम् एच कादरी, विपिन कुमार सिंह, राजेश कुमार सक्सेना, अनिल कुमार अग्रवाल, रामगोपाल, सुखराम,कृपाल सिंह,अजय कुमार, महेश चंद्र,अमन मयंक शर्मा, वीरेन्द्र कुमार, राकेश सिंह, सुशील कुमार सिंह, समीरुद्दीन एडवोकेट, धनपाल सिंह, अखिलेश्वर प्रताप सिंह, आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *