बदायूँ : अस्पताल की निदंनीय हालत देख डीएम ख़फा, सीएमओ दें जवाब

बदायूँ…………जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने मंगलवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, राजकीय पशु चिकित्सालय म्याऊँ एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र उसावां का औचक निरीक्षण किया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र म्याऊं में फार्मासिस्ट होशियार मियां की मोटरसाइकिल स्वास्थ्य केंद्र के अंदर खड़ी पाई जाने पर डीएम ने प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए।
स्वास्थ्य केंद्र में एलईडी बल्ब न लगे पाए जाने पर टूटी-फूटी कुर्सी एवं साफ-सफाई व्यवस्था सही ढंग से न पाए जाने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नेमी चन्द्रा को कड़ी चेतावनी देने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पहले भी निर्देश दिए गए थे कि कार्यालयों में एलईडी बल्ब लगाए जाए और टूटीफूटी कुर्सी मेज सही कराई जाए। उन्होंने कहा कि इससे ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण किया ही नहीं। डीएम ने राजकीय पशु चिकित्सालय का निरीक्षण किया तो डॉक्टर भूपेंद्र प्रकाश अवकाश पर मिले। उन्होंने उपस्थित डॉक्टरों से सचल पशु सेवा की गाड़ी के संबंध में पूछने पर संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। उन्होंने निर्देश दिए कि बहुउद्देशीय सचल पशु सेवा की गाड़ियां रूट प्लान के हिसाब से प्रत्येक गांव में समय से पहुँचकर पशुओं का इलाज करें। उन्होंने कहा किसी दिन अचानक इसका निरीक्षण करेंगे। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही को क्षम्य नहीं किया जाएगा। जिलाधिकारी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र उसावां का निरीक्षण करते हुए निर्देश दिए कि अस्पतालों में एक्सपायरी डेट की दवाई नहीं रहनी चाहिए। इसका निरीक्षण डॉ समय-समय पर पर स्वयं करें। उन्होंने स्वास्थ्य केंद्र के बाद सीसीटीवी कैमरा लगाने का निर्देश दिया। प्रभारी चिकित्सा अधीक्षक के कार्यालय में 8 कैमरे चलते हुए मिले उन्होंने निर्देश दिए कि कार्यालय में बैठकर सभी डॉक्टरों पर कड़ी नजर रखी जाए और वह मरीजों के इलाज में किसी प्रकार की हीलाहवाली न कर सकें। स्नान गृह एवं शौचालय दरवाजे टूटे होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए डॉक्टर सीपी आर्या को निर्देश दिए गए कि तत्काल सही कराएं। अस्पतालों में 24 घंटे चिकित्सक उपस्थित रहे। प्रसव कक्ष में निरीक्षण करते हुए तीमारदारों से उनके मरीजों के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि मरीजों को खाना दवाई निशुल्क मिलता है। उन्होंने तीमारदारों को अश्वस्त किया कि सभी चिकित्सक बेहतर इलाज करेंगे, किसी भी डॉक्टर को पैसे देने की जरूरत नहीं है। स्वास्थ्य केंद्रों पर रात में डॉक्टर समय से उपस्थित रहे। मरीजों को किसी प्रकार की असुविधा न होने पाए। शौचालय के पूर्ण कार्य को तत्काल पूर्ण कराने के लिए निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मरीजों की समय से देखरेख की जाए और सारी दवाएं अस्पताल से ही दी जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *