दुनिया को आतंकवाद से मुक्त कराने के कुछ महत्वपूर्ण उपाय – साईं वचन

चेतावनी: कृपया दोहरी मानसिकता वाले देशभक्त इस लेख को ना पढ़े अन्यथा हृदयाघात के लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे 

उपाय नं०-1

सबसे पहले भारत के लिए नापाक मंसूबे रखने वाले देश का नाम बदलकर नापाकिस्तान रख देना चाहिए सभी चैनल व अखवार जब भी पड़ोसी मुल्क का जिक्र करे तो अदब से नापाकिस्तान के नाम से संबोधित करें । पड़ोसी के सारे मंसूबे नापाक ही तो होते हैं । नापाक उस स्थान को कहते हैं जहां हम मलमूत्र-त्याग करते हैं या जहां से दुर्गंध आती है तो पड़ोसी मुल्क के लिए नापाकिस्तान कहने में हर्ज ही क्या है ?

उपाय नं०-2

आतंकियों की फैक्ट्री और जन्नत का वीजा मुहैया कराने वाला देश नापाकिस्तान जब अपने दूतो को अशांति फैलाने के लिए भारत में भेजता है तो हमारी सेना उन्हें घेर कर मार देती है और कुरान ए जनाजा पढ़ा कर उनकी आलीशान कब्र बना कर उन्हें अमर कर देती है जो कि आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा का स्रोत बन जाता है । नई फसले भी आतंक की ओर आकर्षित होती हैं । इस तरह भारतीय सेना ऐसा करके अप्रत्यक्ष रूप से उनका जन्नत का टिकट कन्फर्म करा देती है और कहती है आपकी यात्रा मंगलमय हो । मेरी राय में तो आतंकियों का कोई धर्म नहीं होता वह हैवानियत के पुजारी होते हैं, और आत्महत्या करना उनका शौक होता है।  तो क्यों ना हम उनकी इस हसरत को पूरा करने की बजाय उनको जिंदा पकड़ लें और जब तक उनका केस अदालत में लंबित रहे उनको सूअरों के फार्म हाउस में कैद कर के रखा जाए,  सूअर की चर्बी युक्त पौष्टिक भोजन खिलाया जाए और फांसी होने पर उनकी नापाक लाश को कूड़े के ढेर पर रख कर सूअर की चर्बी का तेल डालकर आग के हवाले कर देना चाहिए।  इससे कम से कम उनकी जन्नत यात्रा मंगलमय ना हो सके और हूरों का खवाव पूरा न हो सके तब देखिए आतंकवादी सोच कैसे भारत में प्रवेश कर पाएगी। तब वह अपने ही देश में कैसी तबाही मचाएंगे, क्योंकि सांप को दूध पिलाने वाला उनके ज़हर से नहीं बच पाता है । इस प्रकार आतंकी फैक्ट्री से निकलने वाला अगले बैच का माल भारत में रिजेक्ट हो जाएगा और वह अपने नापाक देश में ही कैसे दिवाली दिवाली खेलते हैं , और तब उस देश को पता चलेगा कि जिन सांपों को उसने दूध पिलाया है वह कैसा जहर उगलते हैं ।

उपाय नं०-3

भारत को मित्र देशों की सूची में से पाकिस्तान का नाम हटा देना चाहिए । सिंधु जल संधि तोड़ देनी चाहिए, और भारत से 6 नदियो के माध्यम से पाकिस्तान को दिया जाने वाला पानी बांध बनाकर भारत में ही उपयोग कर लेना चाहिए । इस प्रकार पाकिस्तान के सारे पावर प्रोजेक्ट बंद होने से औद्योगिक इकाइयाँ बंद हो जाएंगी तब पाकिस्तान को भारत की दोस्ती का मूल्य पता चलेगा।

उपाय नं०-4 

हमें भारत पाकिस्तान के बीच होने वाले सारे मैच रद्द कर देना चाहिए । खेलों को मित्र भावना से खेला जाता है जबकि पाकिस्तानी इसे दुश्मनी की नजर से देखते हैं भारत द्वारा हार जाने पर उनका खून खौल उठता है और भारतीय खिलाड़ियों को सोशल मीडिया के माध्यम से बुरा भला कहते हैं यह कोई खेल भावना नहीं हो सकती इसलिए भारत को पाकिस्तान से कोई भी मैच नहीं खेलना चाहिए।

उपाय नं०-5

पाकिस्तान के कलाकारों का भारत में चल रहे फिल्म उद्योगों से रिश्ता पूरी तरह खत्म कर देना चाहिए पाकिस्तानी कलाकार भारत में आकर अपना कला प्रदर्शन करके विश्व में बहुत बड़ी ख्याति अर्जित करते हैं इतिहास देखा जाए तो बड़े-बड़े कलाकारों ने भारत में अपनी कला का प्रदर्शन करके  विश्व में सर्वोच्च ख्याति पाई है इसका मुख्य कारण है भाषा की समानता।  जबकि पाकिस्तान के फिल्में या कलाकार चीन में प्रसिद्ध नहीं है क्योंकि चीनी भाषा और पाकिस्तानी भाषा में कोई समानता नहीं है तब पड़ोसी को भारत की दोस्ती का मूल्य पता चलेगा ।

(यह विचार लेखक ने “अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार” कानून के संरक्षण में लिखे हैं यह विचार पूर्णता निजी हैं वह किसी अखबार न्यूज पोर्टल चैनल का इस से कोई संबंध नहीं है ।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *