बदायूँ: छुट्टा बछड़ो का अभियान चलाकर किया जाए बधियाकरणः डीएम

बदायूँः  गो-संरक्षण समिति की बैठक जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह की अघ्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में सम्पन्न हुई। जिलाधिकारी द्वारा मुख्य पशुचिकित्सा अधिकारी अरुण कुमार जादौन को निर्देशित दिए कि गोशालाओं को अविलम्ब ही भरण पोषण हेतु मदद के लिए शासन को प्रस्ताव भेजें। एक पशु पर 30 रू0 की दर से शासन द्वारा देय है। जनपद में गौ-संरक्षण केन्द्र की स्थापना होनी है जिसके लिए शासन ने 1 करोड़ 20 लाख रू0 मंजूर किए है। उन्होंने अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राज्स्व की अघ्यक्षता में कमेटी गठित की है, जो एक सप्ताह के अन्दर जमीन का चिन्हीकरण कर गो-संरक्षण केन्द्र का कार्य शरू कराएगी। जिससे घुमक्कण, आवारा पशुओं को आसरा मिलेगा।
जिलाधिकारी ने जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार को निर्देशित किया कि  जनपद में 04 गो-शालायें सुचारू रूप से चल रही है उनके संचलकों को वर्मी कम्पोस्ट खाद बनाने की विधि बताएं तथा उत्पादित प्रोडक्ट को जैविक खेती के कार्य करने मे मदद करें। वन विभाग के अधिकारी वृक्षारोपण में फलदार अमरूद, जामुन, आदि, एवं चारा प्रजाति के पेड़ जैसे सोबबूल, नेपियर घास को लगाएं, जिससे बन्दर एवं पशु आराम से खा सकें। सीवीओ को निर्देशित किया कि शहर के छुट्टा बछड़ो को अभियान चलाकर बधियाकरण का कार्य कराएं।
उन्होंने चार संचालकों सचिन भारद्वाज, सचिव श्री ब्रह्यदत्त गोशाला दातागंज रोड़ बदायूँ, श्री रतन सिंह, धर्मार्थ कामधेनु गोशाला उझानी, फूल सिह, श्री साँई गौशाला नूरपुर कोड़िया आसफपुर, अतर सिंह प्रधानाचार्य, बी0पी0स्मारक कामघेनु गौशाला फतेहपुर उझानी जनपद बदायूँ में गोवंश के पालन पोषण में योगदान को देखते हुए माला पहनाकर सम्मानित किया। पुलिस विभाग को निर्देश दिए कि तस्करी के पकड़े गए पशुओं को इन्ही गौशालाओं में भेजें।
जिलाधिकारी ने तत्पश्चात श्री ब्रह्यदत्त गोशाला का निरीक्षण किया। गोशाला सचिव सचिन भारद्वाज द्वारा अवगत कराया गया कि इस गोशाला में 42 गाये विभिन्न समाज सेवियों द्वारा गोद ली गयी है। जिनका भरण पोषण का खर्चा उनके द्वारा किया जा रहा है। दान दाताओं द्वारा दिये गये दान से भूसा आदि की व्यवस्था की जाती है। ब्रह्यदत्त गौशाला प्रबंधक रामा देवी आयु 85 वर्ष को इस पुण्य कार्य करने के लिए सम्मानित किया। उन्होंने समस्त समाज सेवी सस्थाओं,सम्भ्रान्त नगर वासिंयों से अपील की है कि जनपद में फूल सिंह निवासी ग्राम नूरपुर कोडिया की गोशाला 2006 से संचालित है इस गोशाला में 48 गोवंश है। पुलिस द्वारा पकड़े गये एवं निराश्रित आवारा गायें है। फूल सिंह की गोशाला में बाउड्रीवाल एवं स्ट्रक्चर नही है। गायें पेड़ के नीचे बांधी जा रही है। इच्छुक दान दाता आगे बढकर दान करें, जिससे फूल सिंह की गोशाला में पल रही गायों को बाउड्रीवाल एवं आशियाना मिल सकें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी सन्दीप कुमार सहित समस्त गोशाला संचालक मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *