1 मार्च से बैंकों में अब बस 4 कैश ट्रांजैक्शन फ्री, 5वें से देने होंगे 150 रुपये पीटीआई

दिल्ली…………..

बैंकों से कैश लेन-देन अब महंगा हो गया है। एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक ने कैश ट्रांजैक्शन पर शुल्क लगाना शुरू कर दिया है। एक महीने में चार मुफ्त लेन-देन के बाद हर बार 150 रुपये न्यूनतम शुल्क लिया जाएगा। यह नियम एक मार्च से सेविंग और सैलरी अकाउंट पर लागू कर दिया गया है। माना जा रहा है कि कैश ट्रांजैक्शन में कमी और डिजिटल लेनदेन को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से यह कदम उठाया जा रहा है.

प्राइवेट सेक्टर के अगुआ बैंक एचडीएफसी ने अपने एक सर्कुलर में कहा है कि पहले चार ट्रांजैक्शन मुफ्त होंगे, इसके बाद हर बार 150 रुपये फाइन के अलावा टैक्स और सेस वसूल किया जाएगा। थर्ड पार्टी कैश ट्रांजैक्शन पर भी प्रतिदिन 25,000 रुपये की सीमा तय कर दी गई।

नोटबंदी के बाद से ही पीएम मोदीकैशलेस इंडिया पर जोर दे रहे हैं। इस दिशा में तेजी से बदलाव भी देखने को मिले। फिलहाल नोटबंदी के बाद आम लोगों की सहूलियत के लिए सरकार ने कई तरह के ट्रांजेक्शन चार्ज और लेन-देन में चार्जेज हटा दिए थे, लेकिन सोशल मीडिया में 1 मार्च से बैंक चार्ज में होने वाले बदलावों के एक मैसेज ने लोगों की नींद उड़ा रखी है। प्राइवेट बैंकों ने इनमें बदलाव की तैयारी शुरू भी कर दी है और 1 मार्च से ये नियम लागू हो जाएंगे।

कैशलेस इंडिया के तहत कालेधन पर लगेगी लगाम

इनके पीछे का सबसे बड़ा कारण लोगों को नकदी निकासी और जमा को लेकर हतोत्साहित करना है। ऐसा होने से लोग ज्यादा-से-ज्यादा इलेक्ट्रॉनिक ट्रांसफर करेंगे। इस तरह मनी ट्रांजैक्शन होने पर काले धन में कमी आएगी और सरकार हर तरह के मनी ट्रांजैक्शन को वक्त पड़ने पर मॉनिटर भी कर सकेगी। जानकारों के अनुसार प्राइवेट बैंको के चार्ज बढ़ाने के बाद सरकारी बैंक भी इस तरह के चार्ज लगा सकते हैं।

इन बैंकों ने किये बदलाव:

एचडीएफसी बैंक

जमा और निकासी पर4 बार तक जमा और निकासी पर कोई चार्ज नहींउसके बाद हर ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये और सर्विस चार्ज देना होगा। जो तकरीबन 173 रुपये होगा।कैश की लिमिट परहोम ब्रांचइससे ऊपर हर हजार रुपये पर 5 रुपये। मिनिमम चार्ज 150 रुपये2 लाख रुपये तक हर महीने किसी एक अकाउंट सेदूसरी ब्रांच सेइससे ऊपर हर हजार रुपये पर 5 रुपये। मिनिमम चार्ज 150 रुपयेरोज 25 हजार रुपये तक ट्रांजैक्शन फ्रीथर्ड पार्टी कैश ट्रांजैक्शन परसिर्फ 25 हजार रुपये रोज जमा या निकासी कर सकते हैं। इस पर भी 150 रुपये का चार्ज लगेगा।सीनियर सिटिजन और बच्चों के अकाउंट पर कोई चार्ज नहीं लगेगा, लेकिन कैश की लिमिट 25 हजार रुपये ही रहेगी।

ऐक्सिस बैंक

एक लाख रुपये प्रति महीने से ऊपर के जमा पर या पांचवीं निकासी से 150 रुपये या प्रति हजार रुपये पर 5 रुपये चार्ज करने लगता है।
बैंक जानकारों का कहना है कि चू्ंकि एचडीएफसी ने अपने चार्ज में बदलाव किए हैं, ऐसे में देर-सबेर बाकी बैंक भी कैश ट्रांजैक्शन को हतोत्साहित करने के लिए कैश विदड्रॉल के चार्ज में बदलाव कर सकती हैं।

आईसीआईसीआई बैंक

होम ब्रांच में चार से ज्यादा कैश ट्रांजैक्शंज (जमा और निकासियों) पर कम-से-कम 150 रुपये चार्ज किया जाएगा।

एटीएम पर फिर शुरू हुए चार्ज

कैशलेस इंडिया के तहत अब एटीएम से कैश निकालने की लिमिट रोज 10,000 रुपये और हर हफ्ते 50 हजार रुपये तक कर दी गयी है। आरबीआई के पुराने निर्देश के अनुसार, अगर कोई अपने बैंक के एटीएम से महीने में 5 बार से ज्यादा ट्रांजैक्शन करता है तो उसे 20 रुपये चार्ज के रूप में देने पड़ते थे। इसके तहत दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद और बेंगलुरु में दूसरे बैंक के एटीएम यूज करने पर 3 ट्रांजैक्शन फ्री थे जबकि दूसरे शहरों में 5 ट्रांजैक्शन फ्री थे। एक जनवरी से ये नियम फिर से लागू हो गए हैं।

नोटबंदी से पहले एसबीआई, पीएनबी और आईसीआईसीआई बैंक 5 ट्रांजैक्शन के बाद प्रति ट्रांजैक्शन पर 15 रुपये चार्ज करते थे। इनके अलावा ज्यादातर दूसरे बैंक हर एटीएम ट्रांजैक्शन पर 20 रुपये वसूल रहे थे। अब ये चार्ज फिर से शुरू हो गए हैं।

इन बैंकों ने घटाईं बेस इंट्रेस्ट रेट्स

बेस ब्याज दरें वो होती हैं जिनके आधार पर बैंक होम लोन, पर्सनल लोन और ऑटो लोन पर ब्याज दरें तय करते हैं। इनमें कमी का मतलब है कि ब्याज दरों के कम होने से आपकी ईएमआई कम हो सकती है।

आईसीआईसीआई बैंक

ब्याज दरों में 0.7% की कटौती की है।

केनरा बैंक

एक साल के कर्ज पर ब्याज दरों में 0.70% कटौती की है।

बंधन बैंक

ब्याज दरों में 1.48% की कटौती की है।

कोटक महिंद्रा

ब्याज दरों में 0.45% की कटौती की है।

वॉलिट पर चार्ज

पेटीएम वॉलिट के इस्तेमाल पर कंपनी फिलहाल कोई चार्ज नहीं लेती। पेटीएम पहले ही घोषणा कर चुका है कि जो केवाईसी करा चुके, जो दुकानदार बैंक में पैसे ट्रांसफर करते हैं, उनसे तब तक कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा जब तक पेटीएम बैंक न लॉन्च हो जाए।

नोटबंदी से पहले सभी ई-वॉलिट बैंक में मनी ट्रांसफर करने पर चार्ज लेते थे, लेकिन उसके बाद इसे कम किया गया या बंद कर दिया गया। ऐसे में पेटीएम ने हर तरह अमाउंट को बैंक में ट्रांसफर को फ्री कर दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *