बदायूँ: गायत्री शक्तिपीठ एवं आध्यात्मिक चेतना केंद्र पर बसंत पंचमी के पावन अवसर पर पांच कुंडीय गायत्री महायज्ञ हुआ।

बदायूँ: गायत्री शक्तिपीठ एवं आध्यात्मिक चेतना केंद्र पर बसंत पंचमी के पावन अवसर पर पांच कुंडीय गायत्री महायज्ञ हुआ। मातृशक्तियों और देवकन्याओं ने मां सरस्वती का श्रंगार कर पूजा अर्चना की। प्रसाद का भोग लगाकर कन्याभोज कराया गया। भारतीय संस्कृति के अनुरूप पुंसवन, मुंडन और विद्यारंभ संस्कार संपन्न हुए।
मुख्य वक्ता अनिल प्रकाश गुप्ता ने कहा कि बसंत पंचमी श्रद्धा, ऊर्जा और उत्साह का पर्व हैं। मां सरस्वती ज्ञान की संजीवनी प्रदान कर जीवन सार्थक और बहुमूल्य बना देती हैं। गायत्री शक्तिपीठ के परिब्राजक सचिन देव और नत्थूलाल शर्मा ने वेदमंत्रोच्चारण कर पांच कुंडीय गायत्री महायज्ञ संपन्न कराया। श्रद्धालुओं ने लोककल्याणार्थ गायत्री मंत्र और महामृत्युंजय मंत्र की विशेष आहुतियां समर्पित कीं। जिला बेसिक अधिकारी रामपाल सिंह राजपूज ने शक्तिकलश, दीप पूजन किया। बीएसए रामपाल सिंह राजपूत के जन्मदिवस संस्कार पर देवकन्याओं ने पुष्प कर आशीर्वाद दिया। यज्ञ के पश्चात एक पुंसवन, एक मुंडन और 20 विद्यारंभ संस्कार हुए। इसके बाद कन्या भोज कराया गया। ममता रानी पाल के नेतृत्व में संस्कारशाला के बच्चों ने फूलों की मनमोहक रंगोली बनाई।
इस मौके पर मुख्य प्रबंध ट्रस्टी बी ज्ञानेंद्र, रामचंद्र प्रजापति, माया सक्सेना, ट्रस्टी कालीचरन पटेल, पूनम, बोधेंद्र सिंह, तेजपाल सिंह, रेनापाल, सुशील कुमार, पंकज रस्तोगी, प्रदन्या मिश्रा, राजेश्वरी, कलावती, प्रज्ञा आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *