बिसौंली: डीएम साहब-ये कैसा न्याय रिश्वत नही दी तो नही दी बैंक की बीसी/बिना रिश्वत दिए नही होते है कोई काम

बिसौंली /बदायूँ:  योगी मोदी की मंशा की प्रदेश से भृस्टाचार मुक्त राज्य बने उत्तर प्रदेश पर क्यो ऐसा ये सरकारी दामाद बने हुए लोग ही उनकी मंशा को पूरा नही होने देंगे ऐसा ही एक नजारा नगर में स्थित यूनियन बैंक ऑफ इंडिया में देखने को मिला है जहाँ बैंक मैनेजर शोयब खान की मिलीभगत से दलालों के हौसले बुलंद हैं।जहाँ बिना दलाल के चिड़िया भी पर नही मार सकती ।जहाँ केसीसी भी जब बनती है जब केसीसी धारक उनके बनाये हुए दो दलाल के पास नही पहुँच जाता और उनसे सेंटिंग नही कर लेता तब तक उसकी फाइल आगे नही बढ़ती है ।और बताते है की सरकार द्वारा आये आये गरीव लोगो के लिए मुद्रा लोन पर भी तो जनाब ने 10 परसेंट की कमीशन लेकर 10 लोगो को मुद्रा लोन कर दिए ।यूनियन बैंक बिसौंली में दलालों का पूरे दिन जमाबड़ा लगा रहता है ।मैनेजर शोयब खान के भी हौसले बुलंद है ।बो कहते है चाहे कोई कुछ भी कर ले मेरा कोई कुछ नही बिगाड़ सकता है।शोयब खान का आतंक यही नही रुका रीजनल ऑफिस द्वारा आयी मिनी बैंक को भी शोयब खान ने अपने पास काम कर रहे दलालों को ही दे दी जबकि एक शख्स मिनी बैंक (बीसी )के लिए कई महीनों से बैंक के चक्कर लगाता रहा और मैनेजर से इस बात को लेकर कई बार संज्ञान में दिया है ,पर दवंग बैंक मैनेजर एक न सुनी फिर मैनेजर की तरफ से एक दलाल आया और उस से बोला कि 40,000 रुपये दो तो में तुम्हारी बीसी करा दूँगा ।उसने मना कर दिया तो उसकी बीसी मैनेजर ने काट दी ।मैनेजर की दवंगगई को देखकर क्षेत्रीय जनता में रोष पनप रहा है ।मैनेजर की शिकायत शेषनारायण शर्मा ने प्रधानमंत्री ,मुख्यमंत्री ,बित्तमन्त्री ,रिजर्व बैंक, डीएम ,रीजनल ऑफिस(आगरा)समेत सम्बन्धित आला अधिकारियों को शिकायत की है ।

रिपोर्ट अखिलेश मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *