बदायूँ: जोनल एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट पोलिंग बूथों पर जाकर कर लें निरीक्षण

बदायूँः  लोक सभा सामान्य निर्वाचन को शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न कराने के लिए जोनल मजिस्ट्रेट एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट  को  ईवीएम व वीवीपैट संचालन का  प्रशिक्षण दिया गया। सभी मतदान केंद्रों एवं बूथों पर ईवीएम वीवीपैट ले जाकर लोगों को जागरुक करेंगे। सभी अधिकारियों को वीवीपैट बीयू एवं सीयू खोल कर जानकारी दी गई जिससे मतदान के समय जानकारी अभाव के कारण किसी प्रकार की समस्या उत्पन्न न हो सके। मतदान में बाधा डालने वाले खुराफाती लोगों को चिन्हित कर कार्यवाही करें।
सोमवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभागार में जिला निर्वाचन अधिकारी दिनेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में जोनल मजिस्ट्रेट एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट को लोकसभा चुनाव नियमों, ईवीएम, वीवी पैट सहित सामान्य प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने सभी जोनल मजिस्ट्रेट सेक्टर मजिस्ट्रेट को निर्देश दिए कि पोलिंग बूथों पर जाकर निरीक्षण कर ले कि वहां जाने का रास्ता पोलिंग बूथ का हेड पंप, फर्नीचर, विद्युत कनेक्शन, रैम्प एवं शौचालय आदि का रख-रखाव देखकर सुनिश्चित कर लें। उन्होंने कहा कि इलेक्शन की सारी प्रक्रिया जोनल मजिस्ट्रेट एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट को अच्छी व बारीकी से जानकारी होनी चाहिए अगर इसमें किसी प्रकार की लापरवाही हुई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी। चुनाव के दौरान एक छोटी सी गलती या चूक या विधि या नियमों के गलत प्रयोग या मशीन के विभिन्न कार्यो का अपर्याप्त ज्ञान आपके मतदान केंद्र पर होने वाले मतदान को प्रभावित कर सकता है। इसलिए सभी जोनल मजिस्ट्रेट एवं सेक्टर मजिस्ट्रेट बेहद संजीदगी के साथ प्रशिक्षण लें । ईवीएम व वीवीपैट के फुल आपरेशन की एक-एक जानकारी दी गई तथा उन्हें बारीकियों से अवगत कराया गया। वीवीपैंट को नियत मतदान कोष्ठों में ही रखें। मतदान शुरु होने के नियत समय से पूर्व उपस्थित अभ्यर्थियों और अभिकर्ताओं के सामने मतदान मशीन का प्रदर्शन करें। मतदान टुकड़ी के किसी भी सदस्य या मतदान अभिकर्ता को मतदान केंद्र से इधर उधर घूमने न दें तथा उन्हें निर्धारित स्थान पर ही बैठाएं। प्रत्येक अभ्यर्थी के सामने नीला बटन होता है। किसी भी बटन को दबाकर मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकते है। प्रत्येक बटन के साथ एक लैंप होता है। मत रिकार्ड होने के बाद लैंप लालरंग का हो जाता है साथ ही एक बीप की आवाज सुनाई देती है।
डीईओ ने कहा कि ईवीएम वीवीपैट को गांव में जागरूकता के लिए ले जाए तो किसी के घर में न भेजें, गांव के सार्वजनिक स्थान पर सभी लोगों को बुलाकर  अवगत कराएं। उन्होंने कहा कि द्वितीय चरण में बीएलओ द्वारा घर घर जाकर मतदाता स्लिप एवं वोटर गाइड के वितरण का निरीक्षण भी करेंगे। उन्होंने बताया कि मतदाताओं के लिए वोटर स्लिप के साथ 11 विकल्प दिए गए उन्हें मूल रूप से लेकर मतदान केंद्र पर साथ आएं। वोटर स्लिप पहचान पत्र का काम नहीं करेगी। पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, राज्य केंद्र सरकार के लोक उपक्रम/ पब्लिक लिमिटेड कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों को जारी किए गए फोटोयुक्त पहचान पत्र, बैंकों/डाकघरों द्वारा जारी की गई फोटो पासबुक, पैन कार्ड, एनपीआर के अंतर्गत आरजीआई द्वारा जारी किए गए स्मार्ट कार्ड, मनरेगा जॉब कार्ड, श्रम मंत्रालय की योजना के अंतर्गत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड, फोटोयुक्त पेंशन दस्तावेज, सांसदों, विधायकों एवं विधान परिषद सदस्यों को जारी किए गए सरकारी पहचान पत्र एवं आधार कार्ड ही मूल रूप से मान्य होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *