बदायूँ: सांसद धर्मेन्द्र यादव के पक्ष में जनसभा को सम्बोधित करने पहुंचे थे। बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुख्यमंत्री योगी के बयान (कि अली का बोट  गठबंधन को दे दो और बजरंगबली का बोट  मुझको दे दो) पर पलटवार करते हुए मायावती बोली कि हमें अली का बोट  भी चाहिए। बसपा सुप्रीमो मायावती

बदायूँ: आज जनपद बदायूं के मुजरिया चौराहा पर बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव गठबंधन प्रत्याशी सांसद धर्मेन्द्र यादव के पक्ष में जनसभा को सम्बोधित करने पहुंचे थे। बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुख्यमंत्री योगी के बयान (कि अली का बोट  गठबंधन को दे दो और बजरंगबली का बोट  मुझको दे दो) पर पलटवार करते हुए मायावती बोली कि हमें अली का बोट  भी चाहिए  और बजरंगबली का बोट भी  चाहिए क्योंकि बजरंगबली हमारी जाति के हैं और यह बात  सीएम योगी ने स्वयं बताई है इसलिए हमें अली और बजरंगबली दोनों का ही वोट चाहिए इसके बाद भी  सीएम योगी और प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर निशाना साधा और गठबंधन प्रत्याशी धर्मेंद्र यादव के समर्थन में वोट की अपील की साथ ही उन्होंने जब धर्मेंद्र यादव के सर पर हाथ रखकर जीत का आशीर्वाद दिया जिस पर पर उपस्थित जनसैलाब ने तालियों की गड़गड़ाहट से मायावती का समर्थन किया । मायावती यहीं नहीं रुकी उन्होंने जनता का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस पंडाल में जो जनसैलाब उमड़ा है उससे आज अमित शाह की नींद तो अवश्य उड़ जाएगी।
वहीं दूसरी तरफ अखिलेश यादव ने भी विपक्ष को आड़े हाथों लिया वह बोले कि सरकार ने जो 2014 में वादे किए थे वह अभी तक पूरे नहीं हुए हैं । बदायूं की जनता अच्छे दिनों के इंतजार में अभी तक बैठी है बेरोजगारों के रोजगार चोरी हो गए किसानों की आय दुगनी नहीं हुई महिलाएं सुरक्षित नहीं है बीजेपी के नेताओं ने भगवान को भी नहीं छोड़ा उनको भी अलग-अलग जातियों में बांट दिया । उन्होंने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा कि पहले चाय वाले बनकर आए थे और अब चौकीदार बन कर आए हैं । बदायूं की जनता को केंद्र सरकार ने धोखा दिया है इसलिए चौकीदार की चौकी छीनने का काम देश की जनता को करना है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *