बदायूँ: गायत्री शक्तिपीठ पर पाँच कुण्डीय गायत्री महायज्ञ में विशेष आहुतियाँ देते श्रद्धालु।

बदायंू: गायत्री शक्तिपीठ एवं आध्यात्मिक चेतना केंद्र पर पाँच कुण्डीय गायत्री महायज्ञ हुआ। मातृशक्तियों और देवकन्याओं ने माँ दुर्गा के नौ वें रूप का पूजन कर भव्य आरती की। सैकड़ों श्रद्धालुओं ने वर्तमान समस्याओं के निराकरण, सूक्ष्म जगत के परिशोधन और विश्व शांति की कामना से गायत्री महामंत्र की विशेष आहुतियां यज्ञ भगवान को समर्पित कीं। पूर्णाहुति के बाद कन्याभोज कराया गया। आत्मीय परिजनों ने शांतिकंुज के लिए सौ कुंतल गेंहू भेजने का संकल्प लिया।
मुख्यवक्ता गायत्री शक्तिपीठ के अनिल प्रकाश गुप्ता ने कहा कि ने कहा कि मां की शक्ति मनुष्य को देवता बनाने के साथ सद्चिंतन और सद्भाव जगाती है। उन्होंने कहा कि आध्यात्मिक चिंतन से भावनाएंे पवित्र होती है। श्रेष्ठ कार्यों में लगा श्रम, धन, और साधना व्यर्थ नहीं जाती है। देवकन्याएं ही धरा को स्वर्ग और नया संसार बसानें की सामथ्र्य रखती हैं।
मातृशक्ति शिवंवदा सिंह ने कहा कि श्रेष्ठ संस्कारों के पोषण से व्यक्तित्व उदात्त और महान बनता है। मनुष्य जीवन को बहुमूल्य बनाने और महान लक्ष्य को पाने के लिए चुनौतियों को स्वीकारें।
परिब्राजक सचिनदेव ने कहा कि यज्ञीय वातावरण से भारत को ज्ञान का दिव्य स्त्रोत बनाएं।
मातृशक्ति कुमुद सक्सेना के नेतृत्व में मातृशक्तियों और देवकन्याओं ने मां दुर्गा की विराट आरती की। गायत्री शक्तिपीठ के मुख्य प्रबंध ट्रस्टी बी ज्ञानेंद्र ने देवकन्याओं का पूजन किया। उन्होंने बताया कि शांतिकुंज की ओर से विश्व शांति के लिए गृह-गृह गायत्री उपासना, यज्ञ का क्रम चलाया जा रहा है।
इस मौके पर डाॅ. विशेष कुमार, जगदम्बा सहाय, सुरेश कुमार मिश्रा, प्रेमादेवी, कुसुम देवी, हाकिम सिंह, सत्यवाला, अमिता माहेश्वरी, वीरेंद्र प्रकाश रस्तोगी, कालीचरन पटेल, नत्थूलाल शर्मा, रामचंद्रप्रजापति, रामचंद्र माथुर, शोभना, दया शर्मा, धर्मेंद्र सिंह वैद्य, रवींद्र सिंह, दलवीर, हरीश चंद्र शर्मा, चेतन्य बाबू, हर्षित पटेल, मनोज मिश्रा, मुरारी यादव, काली चरन पटेल, प्रदन्या मिश्रा आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *