कोरिया: नेता मंत्री विधायक सांसद विकाश के लंबे लंबे बाते करते थकते नही/विकाश की गाथा तो ऐसे सुनाते है जैसे इन्होंने विकास की गंगा बहा दी हो। (वेदप्रकाश तिवारी की रिपोर्ट)

कोरिया:-सत्ता जिसकी भी हो नेता मंत्री विधायक सांसद विकाश के लंबे लंबे बाते करते थकते नही विकाश की गाथा तो ऐसे सुनाते है जैसे इन्होंने विकास की गंगा बहा दी हो । गांव हो या शहर हर क्षेत्र में विकाश की बाते करते दिखते है लेकिन ज़मीनी हकीकत से सुध लेने की न तो किसी पार्टी को ना ही पार्टी के जनप्रतिनिधियो को फुर्सत है। कोरिया जिले के नगर निगम चिरमिरी के वार्ड क्रमांक(1) एक,के मोहारी डांड, लमिगोड़ा पंचास मिल जैसे स्थानीय लोग मूलभूत सुविधाओं से बहुत दूर है जिस कारण आज ये लोग चुनाव बहिष्कार कर रहे है। हम आप को नगर निगम (शहर) की बात बताने जा रहे है जहाँ आज तक देश के आजादी के बाद एक भी विकास का कार्य नही हुआ है जिस कारण आज यहां के लोगो को लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व का बहिष्कार करने के लिए विवश होना पड़ रहा है। जबकि देश आज 21वी सदी के डिजिटली करण के युग मे जी रहा है और कोरिया जिले के चिरमिरी नगर निगम के वार्ड क्रमांक 01 के निवासी आज भी मूल- भूत सुविधाओं वंचित है।जैसे रोड,बिजली,पानी के लिए तरश रहे है ।
छत्तीसगढ़ में कोरिया जिले के चिरमिरी नगर निगम की बात कर रहे है। नगर निगम के वार्ड क्रमांक एक मे रहने वाले निवाशियो ने लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने की बात कर रहे है इस चुंनाव में अपना मत का उपयोग नही करने की बात बता रहे है। पता चला कि देश के आजादी के बाद आज तक ना तो यहाँ बिजली पहुची है पानी की भी कोई व्यवस्था नही है आज भी यहा के वार्ड के निवासी मूलभूत सुविधाओं के बिना ही अपना जीवन जीने को मजबूर है।नगर निगम क्षेत्र में रहने के बाद भी आज तक यहा के लोग।नगर निगम के महापौर को ना देखा है और ना ही पहचानते है। यहां के लोगों का कहना है कि चुनाव के समय नेता वोट मांगने आते है और वादा कर के चले जाते है फिर पलट कर दुबारा सुध लेने भी नही आते है।
एक ओर नाला और एक ओर पहाड़ से घिरा हुआ इस क्षेत्र के लोग मूलभूत सुविधाओं से बहुत दूर है। बिजली नही होने से अंधेरे में रहने को मजबूर है पानी को व्यवस्था नही होने से नाले का पानी पीने को मजबूर है न कुआ है न हैंड पंप। स्वास्थ्य की बात करे तो यहाँ के लोगो का कहना है कि जब भी कोई बीमार पड़ता है तो उसे खाट में लादकर पैदल ही अस्पताल नाला पार करके आठ दस किलोमीटर लेके जाना पड़ता है। गर्ववती महिला के प्रसूता के समय भी यही समस्या आती है जिस कारण घर मे ही डिलेवरी करना पड़ता है जिससे बच्चे और माँ दोनो का जान को खतरा बना रहता है।यहां के बच्चे भी स्कूल छ आठ किलोमीटर पैदल ही जाते है और डर भी बना रहता कि की कोई जंगली जानवर का सामना ना हो जाये। बताया जा रहा है कि इस क्षेत्र में जंगली हाथी, चीता,भालू अक्सर आते रहते है जिससे इनको खतरा भी बना रहता है।विधानसभा चुनाव के समय इस छेत्र के विधायक श्यामबिहारी जायसवाल प्रसाशनिक अधिकारियो को लेकर इनकी समस्या सुनने और समाधान करने पहुचे थे।फिर भी वही हाल बेहाल हैं। नाराजगी वार्ड के निवासियों में साफ दिख रही है यहाँ तक कि अपना नेता चुनने भी इन्हें 6 किलो मीटर का सफर तय करकर मतदान करने जाना पड़ता है वो भी सड़क न होने के कारण पैदल जिस कारण पूरे के पूरे वार्ड वासी आगामी लोकसभा के चुनाव का बहिष्कार करने का पूरा मन बना लिये है। और इस बार कोरबा लोकसभा में 23 अप्रेल को होंने वाले मतदान में वार्ड वाशी मतदान नही करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *