झाँसी: मऊरानीपुर नगर में बेची जा रही पैक बंद खाद्य पदार्थ न केवल लोगों की स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

झांसी: (नेहा श्रीवास की रिपोर्ट))मऊरानीपुर नगर में बेची जा रही पैक बंद खाद्य पदार्थ न केवल लोगों की स्वास्थ्य के लिए घातक सिद्ध हो रहे हैं बल्कि लोगों के साथ ठगी भी कर रहे हैं।इन उत्पादों के पैरों पर निर्माण की तिथि एमआरपी रजिस्ट्रेशन विल नंबर आईएस आई मार्का अंकित नहीं होता वजन कुछ उत्पादों में लिखा मिल जाता है पर साथ ही यह भी लिखा होता है कि पैक करते समय कितना वजन था मतलब यह है कि ग्राहकों को देते समय उतनी वजन की गारंटी नहीं है।उत्पादों का मूल्य न लिखे होने से दुकानदारों को मनमाने दाम वसूलने की छूट है।उत्पादों की क्वालिटी का तो कोई मानक ही नहीं है। मऊरानीपुर के बाजार में इसी तरह का शक्ति भोग नाम से एक आटा बेचा जा रहा है।जिसे स्थानीय स्तर पर बनाया जा रहा है इसके 10 किलोग्राम के थैला पर रेट अंकित नहीं है। इसलिए दुकानदार इसे 220 से लेकर 240 रुपये तक में बेच रहे हैं।नियमानुसार ग्राहकों को आटे की खरीद पर बिल देना चाहिए मगर नहीं दिया जाता है।इस आटे को बाजार में बिकते हुए कई महीने बीत चुके हैं पर अभी तक की पैकिंग एमआरपी रजिस्ट्रेशन नम्बर बेच नम्बर निर्माण की तिथि अंकित नहीं हो सकी।आटे के थैले पर मिल का नाम और आधा अधूरा मोबाइल नंबर लिखा हुआ है।महीनों से बेचे जा रहे इस आटे के संबंध में प्रशासन ओर खाध विभाग के अधिकारियों को अब तक फुर्सत नहीं मिली है कि वे व्याप्त तमाम कमियों को देख सकें और कमियों को दूर कर सकें। लगता है खाद विभाग ने आटा मिल संचालकों को रेट के साथ मिलावट क्वालिटी के मामले में पूरी छूट दे रखी है।नगर वासियों ने जिलाधिकारी को आटे की बोरी की फोटो में तत्काल जांच कराए जाने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *