बदायूँ:  पूर्ण मूल्य एवं नौकरी लेकर रहेंगे किसान/मांस मछली का अवैध कारोबार बंद हो।

बदायूँ: भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में सोलर प्लांट रिजोला एवं राजकीय मेडिकल कॉलेज बदायूं को भूमि देने वाले कृषकों को पूर्ण मूल्य एवं नौकरी देने तथा जनपद में मांस एवं मछली के अवैध कारोबार को रोकें जाने तथा गुड गवर्नेंस की स्थापना हेतु जनोपयोगी कानूनों को प्रभावी बनाये जाने की मांग को लेकर मालवीय आवास गृह बदायूं पर भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के सहयोगियों, सूचना कार्यकर्त्ताओं एवं प्रभावित कृषकों ने अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट के नेतृत्व में शान्ति मार्च निकाला।
इस अवसर पर विचार व्यक्त करते हुए भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि सोलर प्लांट की स्थापना हेतु कृषकों की भूमि लिए जाते समय विहित विधिक प्रक्रिया का अनुसरण नहीं किया गया।सम्वन्धित कम्पनी को मनमाने ढंग से कृषकों की भूमि क्रय करने की छूट अनुचित समझौते के फलस्वरूप दे दी गई। कृषकों से कोई समझौता नहीं किया गया। अंग्रेजी भाषा में अनुवन्ध पत्र लेखबद्ध कराये गये, राज्य को छति पहुंचाने के उद्देश्य से अनुबंध पत्र निबंधित नहीं कराये गये। अंग्रेजी भाषा में ही लिखे हुए कथित नियुक्ति पत्र वितरित कर कृषकों के साथ धोखा किया गया। विक्रय पत्र भी अन्ग्रेजी भाषा में ही लिखे गए। सार्वजनिक सम्पत्ति पर अवैध कब्जा करने के साथ ही बिना बैनामा के ही कुछ कृषकों की भूमि पर बलपूर्वक कब्जा कर लिया गया।  सोलर प्लांट पूरी तरह लोकहित के विरुद्ध है। इस प्लान्ट की स्थापना से भविष्य में नागरिकों के स्वास्थय पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की संभावना है।
भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के जिला समन्वयक रामगोपाल ने कहा कि राजकीय मेडिकल कॉलेज की स्थापना हेतु भूमि देने वाले कृषकों को भी समझौते के आधार पर भूमि का पूरा मूल्य नहीं दिया गया है और अभी तक नौकरी भी नहीं दी गई है। एक कृषक की भूमि पर बिना बैनामा के ही कब्जा करके निर्माण करा लिया गया।कृषक निरन्तर आन्दोलन कर रहे हैं, किन्तु कृषकों की मांगों को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।
भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के सह जिला समन्वयक शमसुल हसन ने कहा कि सम्वन्धित अधिकारियों के संरक्षण में अवैध रूप से खुलेआम धर्मस्थलो,शिक्षण संस्थाओं, चिकित्सालयों एवं सार्वजनिक भवनों के निकट मांस, मछली एवं मदिरा का विक्रय किया जा रहा है। तहसील परिसर बदायूं के निकट खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों के संरक्षण में मांस व मछली का अवैध कारोबार चल रहा है। जनपद में जनोपयोगी कानून निष्प्रभावी है, इस कारण गुड गवर्नेंस का अभाव है, परिणामस्वरूप भ्रष्टाचार में वृद्धि हो रही है। इन समस्याओं को लेकर चरणबद्ध आंदोलन जारी है।आज शांन्ति मार्च निकाला है,  25-12-2018 से अनिश्चितकालीन उपवास मालवीय आवास गृह बदायूं पर आरंभ किया जायेगा।
अन्त में मुख्य मंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी बदायूं को सौंपा गया।
सत्याग्रह में प्रमुख रूप से अभियान के मार्गदर्शक एस सी गुप्ता,डा एस के सिंह, डाल भगवान सिंह, धनपाल सिंह, युवा मंच के अध्यक्ष ध्रुवदेव गुप्ता, भारतीय एकता परिवार के सचिन सूर्यवंशी, अभय माहेश्वरी,, असद अहमद,अखिलेश सिंह,, आकाश तोमर,, श्रीराम, नेत्रपाल, भारत सिंह,एम एच कादरी,मो इब्राहीम, मुमताज अली, जयकिशन लाल शर्मा, मोहित राघव, रामवीर, बलवीर सिंह, बेचेलाल,फरीद अहमद, अनिल तोमर,सुरेन्द्र मोहन सक्सेना, राजकुमार सिंह,,नारद सिंह, सुरेश पाल सिंह चौहान, हरिओम माथुर, राजीव कुमार भारद्वाज, रवेन्द्र, रामप्यारी,मोरकली, नरसिंह, आशीष कुमार,नीरेश कुमार,विनोद कुमार, जुबैर,प्रेमराज,सोनवती, अमरवती,देवकी चरन,राम औतार, मोहनलाल,भाग्यलक्ष्मी, जयपाल सिंह,मसूद अफसर, सुभाष सिंह, राजपाल सिंह आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *