बदायूँ: सिफारिश करने वालो के निरस्त करें परीक्षा केन्द्र : उप मुख्यमंत्री

बदायूँ :  उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने मण्डलीय बैठक करते हुए निर्देश दिए कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद वर्ष 2018-19 की परीक्षा शतप्रतिशत नकलविहीन होनी चाहिए। छात्रावास और प्रबंधक के आवास के पास परीक्षा केन्द्र नहीं होने चाहिए। परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरा वॉयस रिकॉडिंग सहित अन्य सुविधाएं चालू रहना चाहिए। परीक्षार्थी को परीक्षा केन्द्र में किसी प्रकार के डिजीटल उपकरण के साथ प्रवेश न करने दें।
रविवार को उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने निरीक्षण भवन में जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार, अपर जिलाधिकारी प्रशासन रामनिवास शर्मा, एसपी सिटी जितेन्द्र कुमार सक्सेना, सिटी मजिस्ट्रेट सुनील कुमार सहित बरेली मण्डल बरेली के संयुक्त शिक्षा निदेश प्रदीप कुमार, जिला विद्यालय निरीक्षक राममूरत तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी रामपाल सिंह राजपूत के साथ परीक्षा को पारदर्शी एवं नकलविहीन बनाने के निर्देश दिए गए। उन्होंने निर्देश दिए कि बोर्ड परीक्षा केन्द्रों की दूरी जीपीएस के माध्यम से निर्धारित की जाए। छात्राओं की स्थाई परीक्षा होगी तथा शिक्षक अन्य विद्यालय के रखे जाएंगे। एक प्रबंधक के कई विद्यालय है तो जिस विद्यालय में परीक्षा केन्द्र बना है, उसी में परीक्षा आयोजित होगी, दूसरे केन्द्रों पर नहीं। परीक्षा केन्द्र की सिफारिश करने वाले लोगों के परीक्षा केन्द्र निरस्त कर दिए जाएं। जिन विद्यालयों में पढ़ाई नहीं होती और परीक्षा केन्द्र बन गए हैं, वहां डीएम और एसएसपी कड़ी सुरक्षा में परीक्षा आयोजित कराएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *