बदायूँ: रहेलखंड का सुप्रसिद्ध मिनी कुंभ मेला ककोड़ा में उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य प्रान्तों के श्रद्धालुओं का आना हुआ शुरू ।

बदायूँ: रहेलखंड का सुप्रसिद्ध मिनी कुंभ मेला ककोड़ा में उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य प्रान्तों के श्रद्धालुओं का आना शुरू हो गया है। श्रद्धालु अपने निजी वाहन ट्रेक्टर ट्राली, कार, मोटर साइकिल, तांग बुग्गी और बैलगाड़ियों से मेले में पहुंच रहे हैं। पतित पावनी मां गंगा में हर हर गंगे के जयघोष के साथ डूबकी लगा रहे हैं। मेले में गंगा तट के किनारे प्रसाद की दुकान के साथ चाट पकौड़ी के ठेले भी पहुंच गए हैं। गहराई को देखते हुए मेला प्रशासन ने गंगा में बल्लियां लगा दी हैं। लेकिन यह बल्लियां लाखों की संख्या में पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को देखते कम संख्या में लगी हैं। बल्लियों से थोड़ी जगह की ही बैरीकेटिंग की गई है। मजदूर मेले के मुख्य द्वार और गंगा तट द्वार को बनाने में जुटें हैं। मुख्य द्वार से गंगा तट तक लाइट फिटिंग हो चुकी है। बीआईपी एरिया, प्रशानिक एरिया में लाइट फिटिंग होनी है। फिलाहल मजदूर मेले से पहले ही कोतवाली और फायर सर्विस स्टेशन के पास पोल गाड़ कर लाइट फिटिंग का कार्य कर रहे हैं। मेले में सुरक्षा व्यवस्था के कड़े इंतजाम किये गए हैं। वही पीएसी के जवानों ने मेले में श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर कमर कस ली है। मेले में जलेबी, समोसा, चाट पकौड़ी, पूड़ी कचैड़ी के साथ दुकानदारों ने खेलखिलौने की दुकानें लगाना शुरू कर दिया है। बरेली मार्ग, कोतवाली और बीआईपी के आसपास लोगों ने अपने टैंट बनाना शुरू कर दिया। शासनिक और प्रशानिक के अलावा सांसदों और विधायकों के टैंट लग चुके हैं। मेले के पश्चिम में संत महात्माओं ने अपने तम्बू लगा लिए हैं। मेले में गंगा स्नान के बाद श्रद्धालु संत महात्माओं को दान पुण्य कर लाभ अर्जित कर रहे हैं। फायर सर्विस स्टेशन के जवान भी चाक चैकन्ने होकर अपनी ड्यूटी को निभा रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *