बदायूँ: स्वामी विवेकानंद की 156वीं जयंती युवा चेतना दिवस के रूप में मनाई गई।

बदायूँ: गायत्री शक्तिपीठ एवं आध्यात्मिक चेतना केंद्र पर स्वामी विवेकानंद की 156वीं जयंती युवा चेतना दिवस के रूप में मनाई गई। गायत्री परिजनों ने विवेकानंद के चित्र पर पुष्प अर्पित कर ज्ञान यज्ञ की ज्योति प्रज्ज्वलित की। गायत्री महायज्ञ के साथ युवाओं को उठो, जागो और प्रगतिपथ पर अग्रसर होने का संदेश दिया। मातृशक्तियों और देवकन्याओं ने मां गायत्री, युग ऋषि वेदमूर्ति पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य और वंदनीया माता भगवती देवी शर्मा के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर युवा चेतना दिवस के भव्य कार्यक्रम का शुभारंभ किया।
गायत्री शक्तिपीठ के परिब्राजक सचिन देव ने कहा कि देश की सेवा भाग्य को सौभाग्य में बदलती है। महान व्यक्तित्व के साथ दूसरों के प्रेरणास्त्रोत बना देती है। उसका सदियों बखान होता है।
निर्मल गंगा जन अभियान के जिला संयोजक सुखपाल शर्मा ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने अपने अपार ज्ञान से भारतीय संस्कृति और सभ्यता का परिचम पूरी दुनियां में फहराया।
मातृशक्तियों और देवकन्याओं ने स्वामी विवेकानंद के चित्र के समक्ष ओम और स्वास्तिक के रूप में सजे दीप प्रज्ज्वलित किए। स्वामी विवेकानंद के रूप में सजे बच्चे आकर्षण का केंद्र रहे। युवा शक्ति ने देशभक्ति के नारे लगाए और राष्ट्रसेवा का संकल्प लिया। रघनाथ सिंह ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस मौके पर माया सक्सेना, राजेश्वरी, पूजा, सोहानी, पल्लवी आदि मौजूद रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *